जालंधर, जेएनएन। मेयर जगदीश राजा ने सीवरमैनों की आउटसोर्सिंग के विरोध में पंजाब सफाई मजदूर फेडरेशन की 24 फरवरी से हड़ताल की घोषणा को गैरकानूनी करार दिया है। मेयर ने कहा है कि सिर्फ एक यूनियन और कुछ गिनती के नेता अपने राजनीतिक हितों की खातिर हड़ताल करके माहौल खराब करना चाहते हैं लेकिन ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जबरदस्ती काम बंद करवाकर शहर को नुकसान करने वालों से सख्ती से निपटेंगे।

मेयर बोले कि सीवरमैन यूनियन समेत अन्य निगम यूनियनें हड़ताल का समर्थन नहीं कर रही हैं। आउटसोर्सिंग पर 160 सीवरमैन की भर्ती नियमों के तहत हो रही है और युवाओं को रोजगार मुहैया करवाया जा रहा है। कुछ नेताओं को यह हजम नहीं हो रहा कि लोगों को काम क्यों मिल रहा है। पंजाब सफाई मजदूर फेडरेशन को पहले भी विश्वास दिलाया गया है कि ठेके पर रखे जा रहे सीवरमैन दो साल बाद पक्के करवा दिए जाएंगे लेकिन राजनीति के लिए यह इसका विरोध कर रहे हैं। मेयर ने शहर के लोगों, एनजीओ, निगम मुलाजिमों से अपील की कि अगर हड़ताल होती है तो भी शहर को साफ रखने में निगम को सहयोग करे। निगम शहर में सफाई का ज्यादातर काम करवाएगी। उन्होंने कहा कि फिलहाल ब्लैकमेलिंग से बचकर शहर के हित में कठोर फैसला लेने का समय है।

बरसात से पहले हर वार्ड की गलियां साफ करवाएंगे

मेयर ने कहा कि बरसात से पहले रोड और गलियां साफ करवाने की जरूरत है। उन्होने कहा कि रोड, गलियां साफ न होने से बरसाती पानी की निकासी नहीं हो पाती है। इससे सड़कें भी टूटती हैं। इसलिए बरसात से पहले काफी काम करवाना है। इसलिए ही ठेके पर 160 सीवरमैन रखे हैं। हर वार्ड में दो सीवरमैन होने से शहर में सीवरेज सिस्टम ठीक रहेगा। 160 परिवारों को नौकारी से लाभ होगा। बार-बार भर्ती रोकने के लिए यूनियन का हड़ताल पर जाना ठीक नहीं है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!