जागरण संवाददाता, जालंधर : 'गल्ल आर दी ए न पार दी, गल्ल सच्ची सरकार दी ए', 'भोले दी बारात आई गज्ज-वज्ज के', 'मैं नींवां मेरा मुरशद उच्चा, ते असीं उच्चेआं दे संग लाई' समेत अन्य भेंटों व कव्वालियों से मास्टर सलीम ने हजारों की संख्या में इकट्ठे हुए श्रद्धालुओं का मन मोहा। मौका था भगवान वाल्मीकि विकास सभा, आबादपुरा की ओर से भगवान वाल्मीकि जी के प्रकटोत्सव व बापू लाल बादशाह को समर्पित दो दिवसीय मेले के अंतिम दिन का।

मेले के पहले दिन गायक गौतम जालंधर, शाहदिल और अंतिम दिन सन्नी मित्तल, शाहदिल सलीम व मास्टर सलीम ने हाजिरी भरी। मंच पर परफार्म करने से पहले मास्टर सलीम ने रिंकू खोसला व साथियों समेत भगवान वाल्मीकि जी की प्रतिमा के आगे नतमस्तक होकर आशीर्वाद लिया। मास्टर सलीम ने उस्ताद काला राम से आशीर्वाद लेकर मंच पर गीतों की महफिल सजाई। यहां विधायक सुशील रिंकू, भाजपा नेता रोबिन सांपला व भारी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!