जांलधर, [शाम सहगल]।  चुनाव के दिनों में 50 हजार तक ही कैश साथ रखने की सख्ती तथा गर्मी के चलते सूने चल रहे बाजारों में मंगलवार को मंदी के बादल छंट गए। गोल्ड मार्केट से लेकर बर्तन तथा ऑटो मार्केट से कपड़ा बाजार तक पुन: रौनक लौट आई। इस दौरान लोगों ने दिन भर सोने-चांदी तथा बर्तनों सहित विभिन्न प्रकार के सामान की खरीदारी की। वहीं, दुकानदारों ने भी इसके लिए खास तैयारी की थी। दरअसल, वैसाख की अक्षय तृतीया पर हर तरह की खरीदारी को शुभ माना जाता है। बताया जाता है कि अक्षय तृतीया वाले दिन पूरा दिन किसी भी तरह की खरीदारी के साथ-साथ कोई शुभ कार्य किया जा सकता है। इसके लिए समय निकलवाने की जरूरत नहीं होती। वहीं, शास्त्रों के मुताबिक भी इस दिन शुभ खरीदारी करनी चाहिए। जिसके चलते लोगों ने सोने-चांदी से लेकर बर्तन तथा वस्त्रों से लेकर कई तरह की खरीदारी की।

अक्षय का अर्थ 'क्षय' का न होना

इस बारे में पंडित आदित्य प्रसाद शुक्ला बताते हैं कि अक्षय का सही मायने में अर्थ किसी तरह का क्षय न होना है। जिसके चलते किसी भी शुभ कार्य करने से किसी तरह का क्षय नहीं पहुंचाता। जिसके चलते इस दिन कोई भी की गई खरीददारी करना शुभ है। भारतीय ज्योतिष, चंद्र और सौर मास तथा सौर मास के अनुसार तिथियों का घटना-बढ़ना होता है लेकिन इस दिन सूर्य और चंद्र दोनों एक ही राशि में अपने चरम ¨बदू में होते हैं। जिससे इस दिन किए गए शुभ कार्य, दान व पूजा का अतिरिक्त फल मिलता है।

अक्षय तृतीया का ऐतिहासिक महत्व

त्रेता युग का आरंभ भगवान परशुराम का जन्मोत्सव भगवान बद्री नारायण के दर्शन वृंदावन बांके बिहारी के चरण दर्शन महाभारत काव्य का प्रारंभ। भगवान श्री कृष्ण व सुदामा का आज के ही दिन मिलन हुआ। सुबह आठ बजे खुले शोरूम, दी स्कीमें मंदी से उभरने के लिए अक्षय तृतीया सबसे बेहतर अवसर था। जिसे कैश करने के लिए कारोबारियों ने भी खास तैयारी की थी। यही कारण था कि मॉडल टाउन स्थित सोने व डायमंड के नामी ब्रांड तनिष्क का शोरूम सुबह आठ बजे ही खोल दिया गया। जहां पर दिन भर खरीदारी का दौर चला। वहीं, शोरूम के चीफ मैनेजर अजय कुमार बताते हैं कि अक्षय तृतीया को लेकर डायमंड व गोल्ड की खास ज्वेलरी उतारी गई है। साथ ही कंपनी की तरफ से 25 प्रतिशत का डिस्काउंट भी दिया जा रहा है। जिसे लेकर लोगों में खासा उत्साह है। इसी तरह लीडल ज्वेलर्स के अमित चोपड़ा बताते हैं कि अक्षय तृतीया को लेकर ग्राहकों में भारी उत्साह रहा। वहीं, त्योहार के चलते कई तरह के उत्पाद उतारे गए थे।

बर्तनों की भी हुई जमकर बिक्री बर्तन

बाजार के कारोबारी अनिल शर्मा लाडी व हैप्पी शर्मा बताते हैं कि अक्षय तृतीया को लेकर लोगों ने न सिर्फ नए बर्तनों की खरीदारी की, बल्कि घरों में पड़े पुराने बर्तन भी बेचे। उन्होंने कहा कि अक्षय तृतीया को लेकर बर्तनों की कई नई वेरायटी भी उतारी गई है। इसी तरह बर्तन कारोबारी अजय कुमार बताते हैं कि अक्षय तृतीया को लेकर लोगों ने इस बार स्टील व तांबे बर्तनों की खरीद में अधिक रूझान दिया।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!