जालंधर, जेएनएन। मकसूदां सब्जी मंडी में अब कूड़े से जल्द निजात मिलेगी क्योंकि बायो वेस्ट प्लांट लगने वाला है। इसके लिए 26 नवंबर को ई-टेंडरिंग के तहत टेंडर मांगे गए थे, जिसे आठ करोड़ रुपये में सन इंजीनियर कंपनी व जीके इलेक्ट्रिकल कंपनी ने लेने में रुझान दिखाया है। इसे मंडी बोर्ड ने प्रवानगी के लिए चंडीगढ़ भेज दिया है। इसकी पुष्टि जिला मंडी अधिकारी वरिंदर खेड़ा ने की है।

दरअसल, मकसूदां सब्जी मंडी में गंदगी को लेकर मंडी बोर्ड व नगर निगम में पिछले लंबे समय से कशमकश चल रही थी। सफाई कांट्रेक्टर द्वारा ढंग से काम न किए जाने को लेकर उठ रहे सवालों के बीच मंडी में ही बायो वेस्ट के लिए प्लांट लगाने पर सहमति बनी थी। प्लांट लगाने को लेकर भी सवाल खड़े होते रहे हैं क्योंकि कोई आढ़ती नहीं चाहता है कि उसकी दुकान के आसपास यह प्लांट लगे। लिहाजा, मंडी बोर्ड को प्लांट की लोकेशन भी बदलनी पड़ी है। अब यह प्लांट मंडी बोर्ड के कार्यालय से नागरा को जाते रास्ते में लगेगा। इसे लेकर मंडी बोर्ड ने 26 नवंबर को टेंडर मांगे थे। इसमें दो फर्मों ने रूचि दिखाई है।

जिला मंडी अधिकारी बताते है कि मंडी को स्वच्छ बनाने के लिए यह बेहतर प्रयास है। इससे मंडी को दोहरा लाभ होगा। एक तो मंडी में रोजाना सफाई करने के साथ कूड़े की लिफ्टिंग भी की जाएगी व दूसरा कूड़े से खाद भी बन जाएगी। रिपोर्ट चंडीगढ़ भेज दी गई है। मंजूरी मिलते ही प्लांट लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

जालंधर। साईं दास स्कूल के साथ जिस जगह पर सालों से डंप चल रहा था, वहां अब ग्रीन बेल्ट डवलप की जाएगी। इस डंप को नेशनल कमिशन फॉर चाइल्ड प्रोटेक्शन के तीसरे चेतावनी नोटिस के बाद डिप्टी कमिश्नर वरिंदर कुमार शर्मा और नगर निगम कमिश्नर दीपर्वा लाकड़ा ने शुक्रवार को खत्म करवाया था। कांग्रेस नेता संजय सहगल की शिकायत पर यह कार्रवाई हुई।

 

साईं दास स्कूल की ग्राउंड के साथ वाली जगह (जहां कूड़े का डंप लगता था) पर ग्रीन बेल्ट विकसित करने का काम शुरू हो गया है।

इस डंप पर कई वार्डों का कूड़ा आ रहा है। स्कूल के बिल्कुल साथ होने के कारण बच्चों को कक्षा में बैठने में भी मुश्किल हो रही है। अब इस जगह पर ग्रीन बेल्ट विकसित करने के लिए साईं दास स्कूल के प्रिंसिपल और उनके साथियों ने प्रयास शुरू किए हैं। शनिवार को ग्रीन बेल्ट डवलप करने के लिए काम शुरू कर दिया है। इलाके के लोगों ने कांग्रेसी नेता संजय सहगल का भी आभार जताया है जिनकी वजह से यह डंप खत्म हुआ। पहले हालात यह थे कि यहां से निकलना तक मुश्किल था।

 

 

 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!