रूपनगर, जेएनएन। चंडीगढ़ के शातिर युवक ने लोगों को गोल्ड इनामी स्कीम, कैश इनामी स्कीम और लक्की ड्रॉ स्कीम के चक्करों में उलझाकर उनसे एक करोड़ से ज्यादा रुपये ठग लिए। पुलिस ने शिकायत की जांच के बाद आरोपित रोहित क्वात्रा पुत्र सुरेश क्वात्रा निवासी सेक्टर 20 चंडीगढ़ के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस की कार्रवाई से अभी शिकायतकर्ता माधवी जैन को तसल्ली नहीं हुई है। उन्होंने रोहित के परिवार के बाकी सदस्यों के खिलाफ भी पुलिस को शिकायत दी थी। माधवी जैन मांग कर रही है कि बाकी आरोपितों को भी मामले में नामजद करके गिरफ्तार किया जाए। आरोपित रोहित को आनंदपुर साहिब में दर्ज मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया हुआ है।

शिकायत में आरोपित के माता-पिता सहित परिवार के कई सदस्यों पर आरोप

शिकायतकर्ता माधवी जैन निवासी गुरु तेग बहादुर नगर समेत हरजीत कौर निवासी ज्ञानी जैल सिंह नगर, राजवंत कौर निवासी हरगोबिंद नगर, मीना शर्मा निवासी मल्होत्रा कालोनी, बख्शीश कौर निवासी गुरु तेग बहादुर नगर, कविता निवासी ऊंचा खेड़ा मोहल्ला, सुखविंदर कौर निवासी शामपुरा कालोनी और सुमन कक्कड़ निवासी हरगोबिंद नगर व अन्य। इन्हीं के बयान पर रोहित के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले में केस दर्ज किया है। शिकायत में आरोप लगाया गया कि रोहित की बहन, जीजा, पत्नी और पिता और मां ने इनामी स्कीमों के नाम पर 1,01,58,500 रुपये की ठगी की है।

रूपनगर और चंडीगढ़ के होटलों में होते थे लक्की ड्रॉ

शिकायतकर्ता के मुताबिक रोहित ने गोल्ड इनामी स्कीम प्रतिमाह दो हजार रुपये, कैश इनामी स्कीम 2 हजार रुपये प्रतिमाह, 1500 रुपये वाली लक्की इनामी स्कीम, 1100 रुपये वाली प्रतिमाह स्कीम और 10 हजार रुपये वाली इनामी स्कीम साल 2013 में शुरू की थीं। उन्हें मोहाली के एक परिवार ने इनका सदस्य बनने के लिए प्रेरित किया था। उन्हें विश्वास में लेकर मेंबर बनाया गया। शुरू में आरोपितों ने लोगों में अपना विश्वास बनाने के लिए इनामी स्कीमों के पैसे लोगों को बांटे। फिर उन्होंने 50 हजार रुपये कैश वाली इनामी स्कीम भी शुरू की और 48 महीने बाद दोगुना पैसा देने का वादा किया। इस स्कीम का हर एक महीने ड्रॉ निकाला जाता था। सभी इनामी स्कीमों का ड्रॉ रूपनगर के एचएमटी होटल और चंडीगढ़ के होटलों में निकाले जाते थे।

दिसंबर 2016 में बंद किए ड्रॉ निकालने

माधवी जैन के मुताबिक आरोपितों ने आनंदपुर साहिब, नवांशहर, खरड़ और अन्य कई शहरों में इनामी स्कीमें चलाकर इसी तरह लोगों को ठगा है। दिसंबर 2016 से उन्होंने इनामी स्कीम के ड्रॉ निकालने बंद कर दिए। उन्होंने उनसे कहा कि वे दिवालिया हो चुके हैं लेकिन फिर भी वो उनके रुपये हर हालात में लौटाएंगे। इसलिए वे उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत न करें। इसके बाद वह कई बार उनके दफ्तर गईं लेकिन उन्हें रुपये नहीं लौटाए।

खुद को भाजपा नेता कहलवाता है रोहित का जीजा

शिकायतकर्ताओं ने बताया कि 4 मार्च 2017 को उन्होंने आरोपितों के खिलाफ डीडीआर नंबर 50 चंडीगढ़ के सेक्टर 19 थाने में दर्ज करवाई। 7 मार्च 2019 को वो सारिका के घर गए तो उन्होंने घर का दरवाजा नहीं खोला। उन्होंने पुलिस को इस बारे में 100 नंबर पर दोपहर 1.44 बजे सूचित किया। पुलिस ने आकर दरवाजा खुलवाने का प्रयास किया। लेकिन रोहित के जीजा ने उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज करवा दी थी। रोहित का जीजा खुद को भाजपा का बड़ा नेता कहलवाता है। इस एफआइआर के खिलाफ उन्होंने एसएसपी चंडीगढ़ के पास शिकायत दी हुई है।

 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!