जालंधर [सुक्रांत]। कोरोना वायरस को हराने के लिए पुलिस और प्रशासन पूरा जोर लगा रहा है। लोग गलियों में क्रिकेट खेल कर, एक साथ बैठ गप्पे मार कर भीड़ और खतरा दोनों बढ़ा रहे हैं। ऐसे लोग पुलिस की गाड़ी का सायरन सुनते ही मौके से भाग निकलते और फिर पुलिस के जाते ही जमा हो जाते हैं। दिन भर पुलिस सड़कों पर घूम कर मुनादी करवाती रही कि दुकानें न खोलें, घरों में रहे लेकिन लोग लगातार उल्लंघन करते रहे।

फिर क्या था, कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस को डंडा चलाना पड़ा। जो सड़क पर दिखा उससे उठक-बैठक लगवाई गई। घरों से बाहर निकलने, दुकान खोलने वालों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। वहीं बस्ती मिट्ठू में बिना इजाजत लंगर लगाने वाले के खिलाफ भी पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया। ज्योति चौक, बस्ती अड्डा, पठानकोट चौक, बीएमसी चौक सहित अन्य कई चौराहों पर पुलिस ने कर्फ्यू का उल्लंघन कर रहे लोगों की उठक बैठक निकलवाई और कान पकड़ कर खड़ कर दिया। बुधवार को कर्फ्यू के दौरान शहर के कई इलाकों में दूध और सब्जी की सप्लाई गई लेकिन ज्यादातर इलाकों में न दूध पहुंचा और न ही सब्जी की सप्लाई हुई। गैस सिलेंडर की सप्लाई भी कई घरों तक पहुंची।

 

जालंधरः ज्योति चौक पर मात्र शराब की बोतल के लिए घर से बाहर निकले व्यक्ति को उठक-बैठक लगवाती हुई पुलिस।  

सूची में गड़बड़ी के कारण लोगों को बड़ी परेशानी

जिला प्रशासन की ओर से लोगों को दवाइयां मुहैया करवाने के लिए इलाके वाइज सूची तैयार कर भेजी गई। सूची में गड़बड़ी होने की वजह से लोगों को खासी परेशानियों से जूझना पड़ा। सूची में गुरू नानक पुरा इलाके से संबंधित अर्बन ईस्टेट के दवा विक्रेता का नंबर व पता डाला गया था।

इसके अलावा कई अन्य इलाकों में दवाविक्रेताओं के पते अदला बदली हो गए थे। गुरुनानक पुरा इलाके के राहुल का कहना है कि उन्होंने सूची के मुताबिक फोन किया तो उन्होंने अर्बन ईस्टेट में दुकान होने की बात कही और इतनी दूर सप्लाई देने से मना कर दिया। इसी तरह एक दूसरे इलाके में सप्लाई को लेकर दवा विक्रेता और लोग काफी परेशान हुए।

188 केमिस्ट करेंगे घर-घर दवाइयों की सप्लाई 

रिटेल केमिस्ट एसोसिएसन के प्रधान संजय सहगल का कहना है कि उन्होंने सूचियां जिला प्रशासन को दी थी और टाइपिंग में इलाके वाइज गड़बड़ी की वजह से परेशानियां हुईं। सूची संशोधन के लिए भेजी गई है। प्रशासन ने उन्हें 188 पास दिए हैं जो शहर में तीन जोन बना कर केमिस्टों को बांट दिए हैं। दुकानें खोल कर शटर गिरा फोन पर मिले ऑर्डर के आधार पर दवा घर घर तक सप्लाई की जाएगी, लोगों को परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

------------------ 

लोगों ने बनाए अजीब बहाने- भाजी खांसी हो रही ए, सिविल कित्थे ए..

कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों को पुलिस ने जब रोका तो कईयों ने अजीब-अजीब बहाने बनाए। अली मोहल्ला पुली पर एडीसीपी सुडरविली लोगों को घरों के अंदर खदेड़ रही थी। एक युवक एक्टिवा पर आकर रुका तो पुलिस वालों ने उसे भी रोक लिया। युवक खांसने लगा और बोला कि उसे अस्पताल में जाना है क्योंकि उसे बुखार और खांसी है। यह सुनते ही सभी पीछे हो गए और उसे तुरंत अस्पताल में जाने के लिए कहा।

लोकां दी जान से पई ए तैनूं शराब चाहिदी

ज्योति चौक पर पुलिस ने साइकिल सवार युवक को रोक कर उसके बाहर निकलने का कारण पूछा तो उसका कहना था कि वह शराब की बोतल लेने गया था। उसके एक दोस्त के घर पर शराब पड़ी थी तो वह उठा कर लाया था। पुलिस ने लताड़ लगाई और कहा कि लोकां दी जान ते पई ए तैनूं शराब चाहिदी ए। इसके बाद उसकी छित्तर परेड कर वापस भेज दिया गया।

चार दिनों से कोरोना के अलावा कोई एफआइआर नहीं

कोरोना वायरस ने आम जन के साथ साथ अपराध पर भी अपना असर दिखाया है। विभिन्न थानों में शिकायतें भी कम आ रही हैं। शहर के थानों में जहां पर रोजाना एक या एक से अधिक मामले दर्ज होते ही हैं, वहीं पिछले चार दिनों से शहर के करीब सारे थानों में एक भी एफआइआर दर्ज नहीं हुई है। बुधवार को थाना आठ में चोरी के दो मामले आए जिसके अलावा शहर के बाकी सारे थानों में कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

इनके खिलाफ दर्ज हुए मामले

थाना डिवीजन नंबर सात : करियाना स्टोर मालिक पंजाब एवेन्यू निवासी गगनदीप धवन, स्टोर खोलने का मामला

थाना डिवीजन नंबर सात : मिट्ठापुर निवासी द¨वदर सिंह, बिना वजह सड़क पर घूमने का मामला

थाना रामामंडी : लम्मा पिंड निवासी अजय कुमार घूमने का मामला

थाना कैंट : छत्री चौक, भीम रोड निवासी रवि कुमार

थाना बस्ती बावा खेल : मिट्ठू बस्ती निवासी सुख¨वदर सिंह।

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!