जालंधर [सुक्रांत]। शहर में कर्फ्यू को लगे डेढ़ महीने से ज्यादा हो गया है और अब सरकार की तरफ से लोगों को थोड़ी राहत देने के लिए छूट भी दी जाने लगी है। कई दुकानों को खोलने की सशर्त इजाजत भी मिली है। लेकिन कुछ दुकानदार सरकार की इस छूट का नाजायज फायदा उठा रहे हैं। दुकानदारों को यह मनमर्जी बड़ा खतरा बन सकती है। शहर में सिर्फ वही दुकानें खुल सकती हैं जो गली मोहल्लों में हैं और उनके आसपास कोई और दुकान नहीं है। इसके बावजूद शहर भर में दुकानदार दुकानें खोल रहे हैं और पुलिस की आंख में धूल झोंकने के अलावा शहर के लोगों की जान को खतरे में डाल रहे हैं।

हैरानी की बात है कि शहर के जिन इलाकों को कंटेनमेंट घोषित किया गया है वहां  भी दुकानदार दुकानें खोलने लगे हैं। मेयर जगदीश राजा के ओएसडी के कोरोना पाजिटिव निकलने के बाद पूरे सेंट्रल टाउन एरिया को सील कर कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया था। मंगलवार को वहां पर भी हैंडलूम व्यापारी ने दुकान खोल ली। सूचना मिलते ही थाना तीन की पुलिस मौके पर पहुंची और अग्रवाल हैंडलूम के मालिक सेंट्रल टाउन निवासी नितिन को गिर तार कर लिया। इसी तरह सेंट्रल टाउन में ही रहने वाले जसमीत सिंह ने अपनी इलेक्ट्रानिक्स की दुकान इलाके में खोली हुई थी। मौके पर पहुंच कर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

फगवाड़ा गेट में अपना सामान बाहर रख कर बेच रहे अमित को पुलिस ने गिरफ्तार किया। ढन्न मोहल्ला में पानी के फिल्टर खोल कर बैठे दुकानदार दीपक कुमार की दुकान को बंद करवा कर पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज किया और गिर तार कर लिया। दिन भर में पुलिस ने बिना इजाजत दुकानें खोलने वाले दुकानदारों के साथ साथ कुल 12 मामले दर्ज किए और 12 लोगों को ही गिरफ्तार कर लिया। वहीं मंगलवार को ही पुलिस ने 340 चालान काट कर 26 वाहन भी जब्त कर लिए।

दुकानें खोलने को लेकर हुआ विवाद, फगवाड़ा गेट में पुलिस से उलझे दुकानदार

सोमवार को पुलिस कमिश्नर और डीसी ने इलेक्ट्रोनिक्स की दुकानें खोले जाने की छूट दी थी जिसके बाद सुबह सात बजे से ही फगवाड़ा गेट में दुकानदार पहुंच गए और दुकानें खोल कर बैठ गए। कई दुकानदारों ने अपना सामान भी सड़कों पर रख लिया और आपस में इकट्ठा होने लगे। सूचना मिलते ही थाना तीन की पुलिस मौके पर पहुंची और दुकानदारों को दुकानें बंद करवाने के लिए कहा। दुकानदारों का कहना था कि उनके जिला और पुलिस प्रशासन ने दुकानें खोलने की इजाजत दी है लेकिन थाना प्रभारी रुपिंदर सिंह ने बताया कि दुकानें सिर्फ वही खोल सकते हैैं जिनके पास कोई और दुकान नहीं है लेकिन फगवाड़ा गेट में सारे दुकानें साथ साथ हैैं जिसके चलते वे नहीं खोल सकते। करीब एक घटे तक चले विवाद के बाद दुकानें बंद करवा दी गई।

पुलिस वालों का करवाया मेडिकल, जारी की गई हिदायतें

देहाती पुलिस ने मंगलवार को एक बैठक आयोजित एसएसपी नवजोत सिंह माहल की अध्यक्षता में की गई जिसमें कहा गया कि पंजाब में आने वाले हर व्यक्ति को एकांतवास में भेजा जाएगा। उनका कहना था कि भले ही किसी में कोरोना के लक्षण न हो लेकिन उनको एकांतवास में रहना ही पड़ेगा। इसके अलावा पुलिस कर्मियों को लोगो के साथ सलीके से पेश आने के निर्देश दिए गए। उधर, डा. तरसेम लाल की अध्यक्षता में भोगपुर, पचरंगा, करतारपुर, मकसूदां में नाकों पर तैनात पुलिस कर्मियों का मेडिकल करवाया गया। सारे मुलाजिमों को ड्यूटी सही ढंग से करने के लिए प्रेरित किया गया और उनको हिदायत दी गई कि अपनी ड्यूटी के साथ साथ परिवार का भी पूरा ध्यान रखें।  

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!