जागरण संवाददाता जालंधर। रेड क्रास भवन में बहुप्रतीक्षित नगर निगम सदन की बैठक आरंभ होने के कुछ ही देर बाद स्थगित कर दी गई। जब मेयर जगदीश राजा जाने लगे तो पार्षद देशराज जस्सल ने उन पर सियासी हमला कर दिया। उन्होंने मेयर राजा को हर मोर्चे पर विफल बताते हुए उन्हें हटाने की मांग कर डाली। उनका दावा था कि जिस तरह पंजाब की सियायत से कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाया गया है, उसी तरह मेयर जगदीश राजा को भी पद से हटाया जाए। वह जालंधर का विकास करवाने में विफल रहे हैं। हालांकि इसका अन्य कांग्रेस पार्षदों ने जमकर विरोध भी किया। कांग्रेस की अंदरूनी खींचतान की वजह से बैठक में विपक्षी दलों भाजपा और अकाली दल के पार्षद नहीं पहुंचे। 

इससे पहले, निगम सदन की बैठक की शुरुआत में दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए कुछ देर मौन रखा गया। इसके बाद कांग्रेस पार्षद मनमोहन राजू ने कहा कि भगवान वाल्मीकि महाराज के प्रकटोत्सव के कारण प्रस्ताव नहीं पढ़ पाए, इसलिए यह मीटिंग स्थगित की जाए। इसके बाद मेयर राजा ने मीटिंग को स्थगित करने की घोषणा कर दी। पार्षद देसराज जस्सल ने अधिकारियों से कार्रवाई के प्रस्ताव बारे में पूछा लेकिन मीटिंग स्थगित हो जाने के कारण इसका जवाब नहीं आया। 

पार्षदों को पहली बार पुलिस जांच से गुजरना पड़ा

नगर निगम सदन की बैठक से पहले रेड क्रास भवन में एंट्री के वक्त पार्षद की जांच करते हुए पुलिसकर्मी।

इससे पहले, इस बार रेड क्रास भवन में प्रवेश से पहले पार्षदों को भी पुलिस की जांच के दायरे से गुजरना पड़ा है। इससे पहले कभी पार्षदों की इस तरह की जांच नहीं हुई। मीटिंग के हंगामा खेज होने के आसार हैं। अभी विपक्षी दलों भाजपा और अकाली दल के पार्षद नहीं पहुंचे हैं। मुद्दों को लेकर हर बार मेयर जगदीश राजा को घेरने वाले पार्षद देशराज जस्सल भी बैठक में उपस्थित रहे।

Edited By: Pankaj Dwivedi