जागरण संवाददाता, जालंधर। Farmers Protest: किसानों ने वीरवार को जालंधर-दिल्ली नेशनल हाईवे स्थित बेस्ट प्राइस के आगे धरना लगाकर उसे बंद करने की चेतावनी दी है। किसानों ने बेस्ट प्राइस के मुलाजिमों को 2 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने उनसे कहा कि वह दो घंटे में बेस्ट प्राइस से बाहर आ जाएं नहीं तो किसी भी मुलाजिम को बाहर नहीं आने दिया जाएगा। ये मुख्य रूप बठिंडा से आए हैं, जहां कुछ समय पहले किसानों ने बेस्ट प्राइस को बंद करवा दिया था। किसान अपने साथ दरी, टेंट और लाउडस्पीकर लेकर पहुंचे हैं। कुछ किसान जालंधर के भी उनका साथ देने पहुंचे हैं।

गाैरतलब है कि कुछ समय पहले बठिंडा के भुच्चो मंडी में बेस्ट प्राइस स्टाेर बंद हाे गया था। किसानों का आरोप है कि बठिंडा में बेस्ट प्राइस ने वहां के कुछ वर्करों को बेवजह काम से निकाला है। उन्हें दोबारा नौकरी पर रखा जाए, इसलिए उन्होंने वहां धरना लगाया है। प्रदर्शनकारियों ने बेस्ट प्राइस के दोनों गेट बंद कर दिए हैं। वे दरी और टेंट लेकर गेट पर धरने पर बैठ गए हैं। उनका कहना है कि जब तक निकाले गए कर्मचारियों को बहाल नहीं किया जाता तब तक वे यहां स्थायी धरना लगाकर बैठे रहेंगे।

जालंधर के परागपुर स्थित बेस्ट प्राइस शाप के बाहर धरने पर बैठे किसान। वे नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों को बहाल करने की मांग कर रहे हैं।

अमृतसर दिल्ली नेशनल हाईवे पर किसान बेस्ट प्राइस के बाहर धरने पर बैठ गए हैं। किसानों के अनुसार बठिंडा की भुच्चो मंडी स्थित बेस्ट प्राइस से मुलाजिम निकाल दिए गए थे। उन्हें बहाल करवाने के लिए उन्होंने जालंधर के बेस्ट प्राइस के बाहर धरना लगाया ह। किसानों के अनुसार बठिंडा के भूचो मंडी बेस्ट प्राइस के मुलाजिमों को दोबारा काम पर नहीं रखा गया तो प्रदर्शन जारी रहेगा। उनका धरना 6 अक्टूबर तक लगा रहेगा।बता दें कि इससे पहले किसान जालंधर में बड़ी टेलिकाम कंपनी, नाम ज्वेरली कंपनी के स्टोर सहित कई दुकानों को विरोध में बंद करवा चुके हैं।  

यह भी पढ़ें - क्‍या सीएम चन्नी का अंदाज देख खुद को 'अनसेफ' महसूस करने लगे थे सिद्धू, जानें क्‍यों खफा हुए 'गुरु'

यह भी पढ़ें - Punjab Politics: इस्तीफे के बाद यदि नवजोत सिंह सिद्धू अड़े तो बढ़ सकती हैं परगट की सियासी मुश्किलें

Edited By: Pankaj Dwivedi