जालंधर, जेएनएन। किसानों की फसल के दाने-दाने की खरीद, लिफ्टिंग और पेमेंट को यकीनी बनाते हुए जालंधर राज्य में मौजूदा खरीद सीजन के दौरान धान खरीद और लिफ्टिंग में अग्रणी जिला बनकर उभरा है। डिप्टी कमिशनर घनश्याम थोरी ने बताया कि जिले में खरीद एजेंसियों ने सभी 149 मंडियों में लाई गई 7,49,556 मीट्रिक टन फसल में से 93.51 प्रतिशत की खरीद और लिफ्टिंग कर ली है। कुल 700925 मीट्रिक टन धान की लिफ्टिंग की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि जालंधर का औसत प्रतिशत राज्य के प्रतिशत से कहीं अधिक है और जालंधर दूसरे स्थान पर रहा है।

डिप्टी कमिश्नर ने आधिकारियों को मंडियों में फसल आने के 72 घंटों में लिफ्टिंग सुनिश्चित करने और खरीद के हर पड़ाव में किसानों की सहायता करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा न सिर्फ लिफ्टिंग बल्कि अदायगी के मामले में भी जालंधर अग्रणी जिला बनकर सामने आया है। अब तक जिले में किसानों को 93 प्रतिशत अदायगी 48 घंटों के भीतर सुनिश्चित की गई है।

उन्होंने स्पष्ट कहा कि जिला प्रशासन कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सुरक्षा उपायों और सावधानी का पालन करते हुए धान की तुरंत और निर्विघ्न खरीद को यकीनी बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ेगा। उन्होंने आधिकारियों को मंडियों में पेयजल, शौचालयों  की सुविधा, सैनिटाइजर और शारीरिक दूरी के नियम लागू करने को कहा है। डिप्टी कमिश्नर ने आधिकारियों को पूरे सीजन के दौरान किसानों की सहायता करने के अलावा इस रैंकिंग को कायम रखने के लिए भी कहा। वह जिले में खरीद, लिफ्टिंग और अदायगी प्रक्रिया की निजी तौर पर निगरानी कर रहे हैं और समीक्षा कर रहे हैं।

किसानों से पराली ना जलाने की अपील

डिप्टी कमिश्नर ने किसानों से पराली न जलाने की अपील करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के चलते वायरस से प्रभावित मरीजों की सेहत पर पराली का धुआं बुरा प्रभाव डाल सकता है, जिससे उनकी सेहत और खराब हो सकती है। उन्होंने किसानों को सरकार की तरफ से सब्सिडी पर उपलब्ध मशीनों का प्रयोग करके पराली प्रबंधन अपनाने की अपील की।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!