जालंधर [शाम सहगल]। महानगर में सड़कों की खराब हालत का अंदाजा तहसील कांप्लेक्स की ओर जाकर सहज ही लगाया जा सकता है। यहां डिप्टी कमिश्नर ऑफिस लेकर रोजगार आफिस, जिला लोक भलाई ऑफिस, पुलिस कमिश्नर ऑफिस से लेकर सेवा केंद्र सहित लोगों से जुड़े तमाम सरकारी कार्यालय मौजूद हैं। इनमें जिले भर से रोजाना हजारों लोग अपने काम करवाने आते हैं। उन्हें रोजाना खस्ताहाल सड़कों से होकर गुजरना पड़ता है। तहसील कांप्लेक्स के गेट नंबर 4 में प्रवेश करते समय अगर सावधानी नहीं बरती तो दुर्घटना होना तय है। कारण, यहां पर गेट के बाहर बनाए गए रैंप से अंदर प्रवेश करते ही बड़े-बड़े गड्डों का सामना करना पड़ता है। इसी जगह पर साइकिल स्टैंड की पर्ची काटे जाने के कारण लोगों को न चाहकर भी यहां रूकना पड़ता है। यहां कई बार दुर्घटनाएं घट चुकी हैं।

पैचवर्क का काम भी नहीं करवाया

तहसील कांप्लेक्स में खस्ता हालत सड़कों का निर्माण तो दूर की बात कभी पैचवर्क भी नहीं करवाया गया है। यहीं कारण है कि समय के साथ-साथ गड्ढों का आकार बढ़ रहा है। सड़क पर से पैदल गुजरना भी खतरे से खाली नहीं है।

बारिश में बढ़ जाती है परेशानी

खस्ता हालत सड़कें व उनमें पड़े गड्ढों के कारण बारिश के दिनों में स्थिति बद से बदतर हो जाती है। कारण, मामूली बारिश से भी पानी इन गड्ढों में भर जाता है। इस दौरान यहां से गुजर रहे वाहनों के कारण गंदा पानी उछलकर लोगों पर गिरता है। सीवरेज जाम के कारण कई बार तो तहसील कांप्लेक्स का पानी बाहर सड़कों तक चला जाता है।

डीसी को गंभीरता दिखानी चाहिए

तहसील कांप्लेक्स में ड्राइविंग लाइसेंस का काम करवाने आए जसपाल सिंह बताते है कि खस्ता हालत सड़कों के कारण जनता ही नहीं अधिकारी भी परेशानी झेलते होंगे। ऐसे में डीसी को इस समस्या को गंभीरता के साथ लेना चाहिए। यहीं से शहर के विकास की तस्वीर को देखा जा सकता है।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!