शाम सहगल, जालंधर। बुधवार को रसोई गैस के दामों में फिर से इजाफा हो गया। इस बार दामों में उल्लेखनीय 50 रुपए का इजाफा दर्ज किया गया है। इससे पूर्व मई महीने में दो बार रसोई गैस के दाम बढ़े थे। तीन महीनों में रसोई गैस के दामों में यह तीसरी बार बढ़ोतरी हुई है। इस बार बढ़ोतरी के बाद रसोई गैस सिलेंडर के दाम 1082.50 गए हैं। जिससे गरीब ही नहीं बल्कि मध्यमवर्ग के रसोई का बजट भी गड़बड़ा गया है। इसे लेकर जनता ही नहीं बल्कि विपक्ष भी विरोध जता रहा हैं।

खाद्य पदार्थों पर महंगाई के बीच रसोई गैस सिलेंडर के दामों ने भी आंखें तरेर ली है। हालांकि, जुलाई के शुरुआत में कमर्शियल गैस सिलेंडर के दामों में 191 रुपये की गिरावट हुई थी। इसके बाद घरेलू रसोई गैस सिलेंडर के दामों में भी कटौती होने की संभावना जताई जा रही थी। इसके विपरीत रसोई गैस सिलेंडर के दामों में बढ़ोतरी कर दी गई है। बुधवार को इस बढ़ोतरी को तीनों ऑयल कंपनियों (इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पैट्रोलियम तथा हिंदुस्तान पेट्रोलियम) ने तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है।

तीन महीने में तीसरी बार हुई दामों में बढ़ोतरी

रसोई गैस सिलेंडर के दामों में तीन महीने में तीसरी बार बढ़ोतरी की गई है। इससे पूर्व अप्रैल में रसोई गैस सिलेंडर के दाम 979.50 रुपए थे। जिसमें मई महीने कि सात तारीख को दामों में बढ़ोतरी के साथ 1029.50 रुपए प्रति सिलेंडर कर दिया गया। इसके सप्ताह बाद फिर से 3 रुपए प्रति सिलिंडर बढ़ोतरी करके प्रति सिलेंडर बढ़ोतरी दाम 1032.50 रुपए रेट निर्धारित कर दिया गया। वहीं जून महीना बीतते ही जुलाई में फिर से 50 रुपए की बढ़ोतरी कर दी गई है। इसके बाद अब रसोई गैस सिलेंडर के दाम 1082.50 रुपए हो गए हैं।

लोगों के साथ विपक्ष ने भी जताया विरोध

रसोई गैस सिलेंडर के दामों में उल्लेखनीय इजाफे का लोगों ने ही नहीं बल्कि विपक्ष ने भी विरोध जताया है। इस बारे में चरणजीत पुरा के रहने वाले दीपक महेंद्रु बताते हैं कि हर घर की जरूरत होने के चलते रसोई गैस सिलेंडर के दामों का नियंत्रण सरकार को अपने हाथ में रखना चाहिए। जबकि ऑयल कंपनियों द्वारा आए दिन दामों में इजाफा किया जा रहा है। इसी तरह विनय कपूर ने कहा कि तीन महीने में तीसरी बार इजाफे से घरेलू उपभोक्ता की कमर टूट गई है। सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए।

इस बारे में पूर्व विधायक राजेंद्र बेरी बताते हैं कि रसोई गैस सिलेंडर की जरूरत हर घर को होती है ऐसे में केंद्र सरकार को इसके दामों में कटौती करने की तरफ ध्यान देना चाहिए। जबकि, आए दिन रसोई गैस के दामों में इजाफा करके लोगों की परेशानी बढ़ाई जा रही है।

Edited By: Pankaj Dwivedi