जालंधर, जेएनएन। जालंधर में कोरोना के मरीजों की संख्या कम होने से साथ ही लाकडाउन से भी लोगों को राहत मिलने लगी है। बुधवार को 14-14 साल के दो बच्चों सहित 65 लोग कोरोना की चपेट में आए। वहीं 34 साल के युवक सहित दो लोगों की मौत हो गई। 114 मरीज कोरोना से जंग जीत कर घर पहुंचे। सेहत विभाग के अनुसार पंजाब पुलिस व इंडस्ट्री का एक-एक व सेना के अस्पताल से दो लोग कोरोना पाजिटिव पाए गए। शाहकोट इलाके से पांच, मकसूदां, नकोदर व जालंधर छावनी से तीन-तीन और बूटा पिंड, चौगिट्टी, गढ़ा व गुरु अमरदास नगर से दो-दो लोग कोरोना पाजिटिव पाए गए। सेहत विभाग के नोडल अफसर डा. टीपी सिंह ने कहा कि जिले में लैबों से आई रिपोर्ट में 65 पाजिटिव व 5321 नेगेटिव पाए गए। वहीं जिले भर से 6344 लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए। कोरोना से जंग जीतने वालों की 59874 तथा मरने वालों की 1450 हो गई है।

बच्चे 03

महिलाएं 23

पुरुष  39

कुल संक्रमित : 62200

अब तक स्वस्थ : 59874

एक्टिव मरीज 876

कुल मौतें 1450

सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में बेड की स्थिति

कैटेगरी--कुल बेड--भरे बेड--खाली बेड

लेवल -2 1454 130 1324

लेवल-3 598 130 468

वेंटीलेटर 188 26 162

देहात के मुकाबले शहर के लोगों में वैक्सीन लगवाने का रुझान ज्यादा

जालंधर: कोरोना वैक्सीन लगवाने में देहात के मुकाबले शहरियों में तेजी से रुझान बढ़ रहा है। शहर के सेंटरों में वैक्सीन लगवाने वालों की भीड़ लगातार बढ़ रही है। जिले में पहली बार 18-44 साल आयु वर्ग के लोगों के लिए 28 हजार कोविशिल्ड की डोज आने से बड़ी राहत मिली है। नतीजतन बुधवार को जिले में 9739 लोगों ने वैक्सीन लगवाई। शहरी आबादी में 6841 और देहात इलाके में जालंधर-2 में 1090, फिल्लौर में 1079, नकोदर में 687 व शाहकोट इलाके में 42 डोज लगी। यह जानकारी जिला टीकाकरण अधिकारी डा. राकेश चोपड़ा ने दी। सेहत विभाग के स्टोर में 45 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए 4550 कोवैक्सीन व 140 कोविशिल्ड की डोज पड़ी है। वहीं 18-44 साल तक आयु वर्ग के लोगों के लिए पैसों का भुगतान कर लगने वाली 310 डोज कोवैक्सीन व मुफ्त में लगने वाली कोविशिल्ड की 7690 डोज पड़ी है।

 

Edited By: Vinay Kumar