जालंधर, जेएनएन। जालंधर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले घटने लगे हैं। हालांकि कुछ दिनों से नए पॉजिटिप केस 100-150 के बीच बने हुए हैं। सोमवार को जिले में संक्रमण से तीन लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। वहीं, लगभग 101 लोगों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। हालांकि इनमें अन्य जिलों के मरीज भी शामिल हैं। जिले में वर्तमान में कोरोना वायरस संक्रमण के एक हजार के लगभग सक्रिय केस हैं। इससे पहले रविवार को एक साल के बच्चे सहित 106 लोग कोरोना की चपेट में आए थे। वहीं 25 साल की युवती सहित चार लोगों की मौत हो गई थी। इनमें शहरी व देहाती के दो-दो मामले थे।

सेहत विभाग के नोडल अफसर डॉ. टीपी सिंह ने बताया कि कोरोना के मरीजों की संख्या कम होने लगी है। मरीजों को शून्य करने के लिए लोगों को कोरोना बचाव संबंधी बनाई नीतियों का सख्ती से पालना करना होगी। मुंह पर मास्क लगाना, भीड़ भरे स्थानों पर शारीरिक दूरी रखना और हाथों को बार धोना और सैनिटाइज करना आवश्यक है।  

ब्लैक फंगस का कोई भी मरीज नहीं

जालंधर। ब्लैक फंगस के मरीजों की रफ्तार कम होने लगी है। रविवार को ब्लैक फंगस का कोई भी मरीज नहीं रिपोर्ट हुआ। न ही इसके कारण किसी की मौत हुई है। सेहत विभाग के नोडल अफसर डा. टीपी सिंह ने बताया कि शुक्रवार को मरीजों की संख्या 71 तक पहुंच गई थी। जिले में ब्लैक फंगस से 17 मौतें हो चुकी हैं। इनमें दस जालंधर, शहीद भगत सिंह नगर, जिला ऊना हिमाचल प्रदेश, जिला होशियारपुर तथा लुधियाना का एक-एक मरीज शामिल है।

Edited By: Pankaj Dwivedi