जालंधर छावनी, जेएनएन। कैंट क्षेत्र के अंदर तोपखाना बाजार से गोल्डन कैंटीन व गढ़ा को जाने वाली सड़क कुछ दिनों पहले बंद कर दी गई। सड़क के दोनों तरफ मलबे का पहाड़ बनाकर सड़क पर आवागमन बंद करवाए जाने के बाद से स्थानीय नागरिकों में रोष है। उन्होंने बताया कि सड़क को बेवजह ही सेना के अधिकारियों ने बंद किया है जबकि कैंट की कोई भी आम सड़क बिना कैंट बोर्ड की मंजूरी लिए बंद नहीं की जा सकती है। इसेक कारण स्थानीय निवासियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। तोपखाना बाजार से गढ़ा, पेट्रोल पंप, एटीएम, गोल्डन कैंटीन जाने के लिए लंबे रास्ते से घूम कर जाना पड़ रहा है। वहीं, स्कूल खुलने पर आर्मी क्वार्टरों में रह रहे केंद्रीय विद्यालयों के विद्यार्थियों को भी लंबे रास्ते से घूम कर स्कूल जाना पड़ेगा।

स्थानीय लोगों की सड़क दोबारा खोलने की मांग

स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि लॉकडाउन का फायदा उठाकर सेना ने इस सड़क पर कब्जा कर लिया और आम लोगों की आवाजाही के लिए इसे पूरी तरह से बंद कर दिया है। तोपखाना निवासियों ने सड़क को पुनः खोलने की मांग को लेकर रोष प्रदर्शन शुरू कर दिया है।

लोगों का आरोप है कि कुछ साल पहले ऐसे ही बडिंग बैरियर से होकर जीटी रोड दकोहा जाने वाली सड़क पर भी मलबा डाल कर आवाजाही अवरुद्ध की गई थी। बाद में दीवार बनाकर स्थायी रूप से बंद कर दिया गया था। कुछ दिन पहले मॉल रोड पर भी गेट बंद करके आम लोगों की आवाजाही बंद की गई थी, जिसे स्थानीय नागरिकों ने कैंट बोर्ड के सीईओ को ज्ञापन देकर खुलवाया था।

इस संबंध में कैंटबोर्ड के सीईओ ज्योति कुमार ने कहा कि इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नही है। मामला संज्ञान में आते ही उन्होंने तत्काल कैंटबोर्ड अधिकारी को मौके पर भेज कर मामले की जानकारी ली है।

यह भी पढ़ें - पंजाब में दो सियासी 'दुश्‍मनों' ने हाथ मिलाने की चर्चा, कैप्टन और बाजवा की गुप्‍त मुलाकात की कयासबााजी

यह भी पढ़ें - 

 

Edited By: Pankaj Dwivedi