जेएनएन, चंडीगढ़/जालंधर। असामाजिक तत्वों के खिलाफ जारी जंग के तहत पंजाब पुलिस काे शनिवार काे बड़ी सफलता मिली है। शनिवार काे पुलिस ने फिरोजपुर के गांव जोगेवाल के हरप्रीत सिंह उर्फ ​​हर सरपंच काे गिरफ्तार कर लिया। पंजाब के डीजीपी गौरव यादव ने बताया कि यह कार्रवाई इस माड्यूल के दो गुर्गों बलजीत सिंह मल्ली और गुरबख्श सिंह उर्फ ​​गोरा संधू की गिरफ्तारी के आठ दिन बाद हुई है। इन्हें काउंटर-इंटेलिजेंस जालंधर ने गिरफ्तार किया था। दोनों फिरोजपुर के निवासी हैं।

नवजोत सिंह महल के नेतृत्व में काउंटर-इंटेलिजेंस जालंधर टीम ने गुरबख्श सिंह के गांव से दो मैगजीन, 90 जिंदा कारतूस और दो खोल के साथ एक आधुनिक एके-56 राइफल भी बरामद की थी। डीजीपी गौरव यादव ने बताया कि आरोपित बलजीत मल्ली के खुलासे के बाद पुलिस टीम हरप्रीत सिंह उर्फ ​​हर सरपंच को गिरफ्तार करने में सफल रही है, जो इटली के रहने वाले गैंगस्टर हरप्रीत सिंह उर्फ ​​हैप्पी सांघेरा और कनाडा के रहने वाले गैंगस्टर लखबीर का करीबी माना जाता है। वह लंडा के संपर्क में भी हैं।

डीजीपी ने बताया कि प्राथमिक जांच में हरप्रीत सिंह उर्फ ​​हर सरपंच ने अमृतसर के मेहता रोड निवासी लखबीर लंडा के साथी जगजीत सिंह उर्फ ​​जोटा और उसके साथी को फिरोजपुर के मक्खू इलाके में एक खाली मकान में 10 दिन रहने की व्यवस्था की थी। उसके खिलाफ चार आपराधिक मामले लंबित हैं और वह इस समय सेंट्रल जेल अमृतसर में बंद हैं।

नछतर सिंह उर्फ ​​मोती के संपर्क में था आराेपित

उन्होंने कहा कि आरोपी सरपंच ने यह भी खुलासा किया कि वह नछतर सिंह उर्फ ​​मोती के संपर्क में था, जिसे तरनतारन पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया था और वह अपनी बीएमडब्ल्यू कार में नशीली दवाओं की खेप ले जाता था। गौरतलब है कि हाल ही में उक्त बीएमडब्ल्यू कार को अमृतसर कमिश्नरेट पुलिस ने जब्त किया था।

लखबीर लंडा और हैप्पी संघेरा के नाम से पैसे वसूल करता था हरप्रीत

एआइजी नवजोत सिंह महल ने कहा कि आराेपित हर सरपंच गैंगस्टर लखबीर लंडा और हैप्पी संघेरा के नाम से पैसे वसूल करता था और उनके साथियों को आर्थिक मदद और साजो-सामान मुहैया कराता था. उन्होंने कहा कि आगे की जांच जारी है। जल्द ही और खुलासे होने की उम्मीद है.

Edited By: Vipin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट