संवाद सूत्र, शाहकोट

शहर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा मानव शरीर में आयोडीन के महत्व और इसकी कमी के खतरों को बताने के लिए सादा समारोह करवाया गया। इसमें सीनियर मेडिकल अफसर डा. अमरदीप सिंह दुग्गल ने कहा कि लोग आयोडीन के महत्व से अनजान हैं। वे नहीं जानते कि आयोडीन हमारे शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास के लिए आवश्यक है। खासतौर पर बच्चों, गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गो में इसकी जरूरत होती है। गर्भवती महिलाओं में इसकी कमी से गर्भपात, जन्मजात अपंगता हो सकती है या बच्चा मृत पैदा हो सकता है। बच्चा मंदबुद्धि, बहरा, गूंगा और बौना पैदा हो सकता है, इसलिए सभी को रोजाना पर्याप्त मात्रा में आयोडीन का सेवन करना चाहिए। डा. पूनम यादव और उनकी टीम ने भी सरकारी मिडिल स्कूल बाहमणीयां में बच्चों को लेक्चर दिया। उन्होंने कहा कि बच्चों को अपने माता-पिता को बताना चाहिए कि आयोडीन हमारे शरीर के लिए क्यों महत्वपूर्ण है और हमें यह आयोडीन युक्त नमक में मिलता है। जब भी आप नमक का पैकेट खरीदें तो उगते सूरज का निशान इस पर जरूर देखें। उन्होंने यह भी कहा कि खाना पकाने के अंत में नमक डालना चाहिए, ताकि वह वाष्पित न हो।

Edited By: Jagran