जागरण संवाददाता, जालंधर: इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की मुसीबतें कम होती नहीं दिख रही है। एक ओर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) का कर्ज तो दूसरी ओर इन्हांसमेंट की टेंशन। वो भी तब जबकि मामला सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के पालन का है। ट्रस्ट की ईओ सु¨रदर कुमारी इन्हांसमेंट के मामले में ट्रस्ट की ओर से शपथ पत्र दायर करने को दिल्ली पहुंच गई हैं। आज ट्रस्ट की ओर से सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र दायर करने के साथ ही किसानों को इन्हांसमेंट देने के लिए कुछ और मोहलत हासिल करने की कोशिश भी की जा रही है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में केस जीतने के पांच महीने बाद भी किसानों को ट्रस्ट से इन्हांसमेंट की राशि नहीं मिल सकी है। बुधवार को ट्रस्ट की ईओ सु¨रदर कुमारी एटीपी व लीगल सेल के स्टाफ के साथ नई दिल्ली गई हैं। ट्रस्ट के चेयरमैन दीपर्वा लाकड़ा का कहना है कि चूंकि ट्रस्ट के पास फंड नहीं है। इसके चलते इस मामले में सोमवार को चंडीगढ़ में सरकार के समक्ष ट्रस्ट के मौजूदा हालात का ब्योरा रखकर फंड मुहैया कराने की मांग की जाएगी। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक जल्द ही किसानों को इन्हांसमेंट दे दी जाएगी। ट्रस्ट चेयरमैन ने पीएनबी को एकमुश्त अदायगी का दिया प्रस्ताव

पीएनबी के 105 करोड़ के बकाया लोन के मामले में बुधवार को ट्रस्ट के चेयरमैन दीपर्वा लाकड़ा ने बैंक प्रबंधन के साथ बैठक की। बैंक के एजीएम केसी गगरानी के साथ हुई बैठक में चेयरमैन ने भरोसा दिलाया कि वो एकमुश्त अदायगी के प्रयास में हैं। इसके लिए फंड का इंतजाम कर रहे हैं। सोमवार को सरकार के पास भी फंड की मांग का मसला लेकर चंडीगढ़ में बैठक है। फंड मुहैया होने पर बैंक को एकमुश्त अदायगी कर दी जाएगी। वन टाइम सेटलमेंट की स्कीम क्या होगी, यह निर्भर करेगा कि ट्रस्ट के पास कितना फंड उपलब्ध होगा। उधर, केसी गगरानी का कहना है कि बैंक की ओर से गिरवी रखी प्रापर्टी पर कब्जा लेने के बाद आगे की प्रक्रिया जारी रहेगी। जब ट्रस्ट भुगतान करेगा फिर कार्रवाई रोकी जा सकती है। ट्रस्ट दफ्तर में काम ठप, इंजीनियरों को भी भेजा चुनावी ड्यूटी पर

इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट दफ्तर में एक तरफ विजिलेंस की दहशत है, तो दूसरी ओर लगभग पूरे स्टाफ के ही पंचायत चुनाव की ड्यूटी पर चले जाने से पूरे दफ्तर का काम ठप हो गया है। पहले सेल ब्रांच के आधा दर्जन स्टाफ को गोराया में चुनाव ड्यूटी पर भेजा गया था पर बुधवार को इंजीनिय¨रग ब्रांच के भी समूह स्टाफ को नूरमहल व लोहियां सहित दूसरे ब्लाक में चुनावी ड्यूटी पर तैनात करने का आदेश जारी कर दिया गया। ऐसे में 15 मुलाजिमों की ड्यूटी लगाई जा चुकी है और ट्रस्ट में कोर्ट केस व लीगल मैटर देखने वाले स्टाफ को छोड़कर सिर्फ सेवादार ही बचे हैं। बुधवार को ट्रस्ट दफ्तर में आए लोगों को स्टाफ नहीं होने के चलते बगैर काम कराए लौटना पड़ा।

Posted By: Jagran