जालंधर, जेएनएन। पंजाब सरकार के बस स्टैंडाें पर भी परिवहन माफिया ने अपनी उपस्थिति बना रखी है। सरकारी तंत्र को चुनौती देते हुए जालंधर बस अड्डे पर अवैध रूप से चलने वाली बसों के विज्ञापन लगे हुए हैं। यही नहीं यात्रियों को बुकिंग काे आकर्षित करने के लिए जालंधर एवं गंतव्य तक के बु¨कग काउंटरों के नंबर दिए गए हैं।

पंजाब रोडवेज ने जालंधर के शहीद-ए-आजम भगत सिंह इंटर स्टेट बस टर्मिनल को निजी ठेकेदार के हाथ सौंप दिया है। निजी ठेकेदार ने पैसा कमाने की हाेड़ में सरकारी नियमों को दरकिनार कर दिया है। बस स्टैंड के भीतर पंजाब रोडवेज के अधिकारी तैनात रहते हैं और ठीक सामने मात्र 20 फुट की दूरी पर पंजाब रोडवेज के जनरल मैनेजर का ऑफिस भी है। इन सभी की नाक तले ठेकेदार बस स्टैंड परिसर में उन बसों का प्रचार करवा रहा है, जो सरकारी खजाने को प्रभावित कर रही हैं।

पंजाब रोडवेज वर्कशॉप के ठीक सामने मोता सिंह नगर में कुछ ट्रांसपोर्टर जालंधर से दिल्ली, जयपुर, जम्मू, लखीमपुर आदि स्थानों के लिए एसी बसों का संचालन कर रहे हैं, जिनके पास स्टेट कैरिज परमिट ही नहीं है। जबकि प्रति यात्री बु¨कग करने वाली बसों के संचालन के लिए यह परमिट होना अनिवार्य है।

तुरंत उतरवाए जाएंगे बोर्ड : मिन्हास

पंजाब रोडवेज के जनरल मैनेजर परनीत सिंह मिन्हास ने कहा कि यह बेहद गंभीर मसला है। अगर ठेकेदार ने बस स्टैंड परिसर में ही ऐसे बोर्ड लगाए गए हैं तो तत्काल बोर्ड उतरवाए जाएंगे और ठेकेदार पर भी नियमों के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!