जालंधर, [मनुपाल शर्मा]। शहर के काबिल सपूत लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह उर्फ बब्बू को सेना की उत्‍तरी कमांड ( नार्दर्न कमांड) की कमान मिली है। वह हजारों युवाओं को सेना में भर्ती करवाने के लिए जालंधर के जिला सैनिक कल्याण कार्यालय में प्री रिक्रूटमेंट कैडर चलाने वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल मनमोहन सिंह (85) के पुत्र हैं। लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह उर्फ बब्बू ने ऊधमपुर स्थित सेना की संवेदनशील नार्दर्न कमांड के जीओसी इन सी का पदभार संभाला है।

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने ऊधमपुर स्थित नार्दर्न कमांड के जीओसी इन सी का पदभार संभाला 

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह गुलाम कश्मीर में 29 सितंबर 2016 को भारतीय सेना की तरफ से की गई सर्जिकल स्ट्राइक के सूत्रधार थे। वह उस समय भारतीय सेना मुख्यालय में डीजीएमओ (डायरेक्टर जनरल मिलिट्री आपरेशंस) के पद पर तैनात थे।

बेटे की उपलब्धि को पिता ने बताया जन्म दिन का उपहार

अपने बेटे की इस उपलब्धि को रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल मनमोहन सिंह ने अपने 85वें जन्म दिन का उपहार बताया है। लेफ्टिनेंट कर्नल मनमोहन सिंह ने बब्बू को अपने बड़े भाई जूनियर कमीशंड आफिसर से गोद लिया  था। उस समय बब्बू की उम्र महज तीन वर्ष की थी। जिला होशियारपुर के गढ़दीवाला के नजदीक स्थित गांव अंबाला जट्टां से मनमोहन सिंह उनको जालंधर ले आए और उन्हें लाजपत नगर स्थित सेंट जोसेफ स्कूल में दाखिल करवाया। पांचवीं कक्षा के बाद बब्बू का दाखिला सैनिक स्कूल कपूरथला में करवाया गया, जहां से 10वीं करने के बाद वह एनडीए की परीक्षा पास करने में सफल रहे।

---

अब यही तमन्ना, बेटा मिसाल कायम करे

बकौल मनमोहन सिंह उन्होंने बेटे बब्बू को शुरूआत से ही कठिन परिश्रम करवाया था। बब्बू ने 1980 में सेना में कमीशन प्राप्त किया। इस समय रणबीर सिंह की उम्र 58 वर्ष है। मनमोहन सिंह ने बताया कि जनरल सुंदर जी के बाद रणबीर ही ऐसे इंफेंट्री अधिकारी हैं, जिन्होंने आर्म्‍ड डिवीजन को कमांड किया। उन्होंने कहा कि उनकी तमन्ना है कि बब्बू अपनी नई जिम्मेदारी में भी मिसाल कायम करे। 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!