जागरण संवाददाता, अमृतसर: शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) की ओर से अपना शिष्टमंडल अफगानिस्तान भेजने के लिए प्रधान एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने भारत सरकार के विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखा है और जरूरी कार्रवाई को जल्द पूरा करवाने की अपील की है।

अफगानिस्तान में मौजूदा हालात के चलते सिख चिंतित

बता दें कि, कमेटी अपना शिष्टमंडल जुलाई में भेजना चाहती है, ताकि वहां के सिखों के हालात के बारे में पता चल सके। इसके साथ ही सरकार व अधिकारियों के साथ सिखों और हिंदुओं की सुरक्षा संबंधी बातचीत की जा सके। धामी ने बताया कि अफगानिस्तान में मौजूदा हालात के चलते वहां पर रहते सिख चिंतित हैं, लिहाजा एसजीपीसी उनकी मुश्किलों को जानने के लिए अफगानिस्तान जाना चाहती है। इसके अलावा वहां ऐतिहासिक स्थानों के हालात और साथ ही संभाल भी बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ेंः - Famous Temples of Punjab: लुधियाना का संगला वाला शिवाला मंदिर बना आस्था का केंद्र, 500 साल पहले उत्पन्न हुआ था स्वयंभू शिवलिंग, जानें खासियत

अफगानिस्तान में सिखों की मदद करना एसजीपीसी का फर्ज

उन्होंने कहा कि सिख विरासत और गुरु स्थानों की संभाल की जिम्मेदारी एसजीपीसी निभाना चाहती है। इस संबंधी अफगानिस्तान में आए भूकंप से पीड़ितों की मदद के लिए भी वह तैयार है। उन्होंने कहा कि भले ही सरकार ने संकट के समय सिखों और हिंदुओं को भारत लाने का सराहनीय प्रयास किया है, लेकिन एसजीपीसी का भी फर्ज है कि वह अफगानिस्तान में सिखों की मदद के लिए काम करे।

यह भी पढ़ेंः -गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई को आज रात अमृतसर की अदालत में किया जाएगा पेश, पुलिस छावनी में बदला कचहरी क्षेत्र

गौर हो कि, अफगानिस्तान में बीते बुधवार भूकंप के जबरदस्त झटके महसूस किए गए। भूकंप के चलते करीब 1100 से अधिक लोगों की मौत हुई है। दशकों के युद्ध, गरीबी और आर्थिक संकट से जूझ रहे अफगानिस्तान के लिए यह भूकंप और मुश्किलें बढ़ाने वाला है।

Edited By: Deepika