जागरण संवाददाता, जालंधर : पुलिस डीएवी पब्लिक स्कूल में आठवीं कक्षा के टेनिस खिलाड़ी हरजय सिंह अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर कई खिताब अपने नाम कर चुके हैं। हरजय सिंह की दो बहनें हैं। एक बहन खुशमन बिद्रा बैडमिटन में कई खिताब जीत चुकी हैं। वहीं, दूसरी बहन हरमन बिद्रा आइएएस की तैयारी कर रही हैं। हरजय सिंह ने टेनिस खेलना अपनी बहन खुशमन बिद्रा से प्रेरित होकर शुरू किया। पिता अमनप्रीत बिद्रा खेल कारोबारी हैं जबकि मां ज्योति बिद्रा घर संभालती हैं। हरजय सिंह की उपलब्धियां

डीएवी क्लस्टर में स्वर्ण पदक जीता।

डीएवी जोनल टूर्नामेंट में रजत पदक जीता।

डिस्ट्रिक्ट टेनिस टूर्नामेंट में रजत पदक।

स्टेट टेनिस टूर्नामेंट में रजत पदक जीता।

बीसी बुद्धा मेमोरियल टेनिस टूर्नामेंट में रजत पदक जीता।

डिवाइन पब्लिक स्कूल टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक प्राप्त किया। रोजाना दो घंटे अभ्यास करते हैं हरजय

हरजय सिंह ने बताया कि वह रोजाना दो घंटे लिटिल ब्लासम स्कूल में चल रही टेनिस एकेडमी में जाकर अभ्यास करते हैं। हरजय ने बताया कि वह नंबर वन टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच को अपना आदर्श मानते हैं। व‌र्ल्ड रैकिग में पहले स्थान पर काबिज होना उनका सपना है। कई बच्चों को खेलने के लिए मना नहीं किया

पिता मनप्रीत सिंह बिद्रा व मां ज्योति बिद्रा ने कहा कि उन्होंने कभी भी बच्चों को खेलने से मना नहीं किया। बेटी खुशमन ने चौथी कक्षा से ही बैडमिटन को हाथ में पकड़ लिया था। दोनों बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ खेलों में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। पदक जीतकर हमारा नाम रौशन कर रहे हैं। मां बाप के लिए इससे बड़ी खुशी क्या हो सकती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!