जालंधर, जेएनएन। कोरोना के साथ लड़ाई में अकेली सरकार नहीं जीत सकती। इस लड़ाई में शिक्षण संस्थान साथ देने को तैयार है। कोविड-19 का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, ऐसे में सरकार करेगी जल्द से जल्द 10 हजार बेड का इंतजाम करें। हालांकि सरकार चार सालों से रुका पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप का पैसा जारी कर दें, तभी यह संभव हाे पाएगा। यह फैसला कन्फेडरेशन ऑफ स्कूल एंड कॉलेज ने लिया है।

प्रधान अश्विनी सेखड़ी ने कहा कि केंद्र की तरफ से राज्य सरकार को 309 करोड़ रुपये जारी किया गया है ऐसे में वह पैसा पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप के रूप में लौटाया जाए। इसके बदले में शिक्षण संस्थान 10 हजार बेड का इंतजाम करके दे सकते हैं। इसमें सरकार को कोई भी नुकसान नहीं होगा क्योंकि यह पैसे पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के रूप में स्वीकार होगा और बदले में नोबल कॉज के तौर पर संस्थान खुद इंतजाम करेंगे।

अभी तक सरकार के पास 8713 बेड का ही इंतजाम

माैजूदा समय में  सरकार के पास 8713 बेड का ही इंतजाम हो पाया है। पंजाब सरकार अगर पैसा संस्थानों को देती है तो वह सारा खर्च अपनी तरफ से करेंगे जिससे वह कर्मचारियों को वेतन भी दे सकेंगे और अगर कोविड-19 के दौरान कोई मरीज आते हैं तो उनकी देखभाल भी कर सकेंगे। इसके लिए बीएससी और एमएससी नर्सिंग स्टाफ भी ड्यूटी पर तैनात रहेगा। इस अवसर पर सेंट सोल्जर ग्रुप के अनिल चोपड़ा, इनोसेंट हार्ट ग्रुप के डॉ. अनूप बोरी व डॉ. नरोत्तम आदि माैजूद थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Vipin Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!