जालंधर, अंकित शर्मा। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को जल शक्ति अभियान से जोड़ कर जल संरक्षण अभियान चलाया जाएगा। इसके तहत एक महीने तक विभिन्न गतिविधियों के जरिए विद्यार्थियों को जल स्त्रोत को बचाने के लिए जागरूक किया जाएगा। यह अभियान भारत सरकार की तरफ से एक भारत श्रेष्ठ भारत की गाइडलाइंस के तहत करवाया जा रहा है। इसमें प्राइमरी, मिडिल, हाई और सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के विद्यार्थी भाग लेंगे। ऐसे में अध्यापक विद्यार्थियों को क्या-क्या पढ़ाएंगे, उसका शेड्यूल भी जारी कर दिया गया है।

छठी कक्षा के विद्यार्थी पानी, सातवीं कक्षा के विद्यार्थी व्यर्थ पानी की कहानी, मौसम, जलवायु अनुसार जंतुओं का अनुकूलन, आठवीं कक्षा के विद्यार्थी हवा और पानी का प्रदूषण, नौवीं कक्षा के विद्यार्थी कुदरती साधन, दसवीं कक्षा के विद्यार्थी कुदरती साधनों का प्रबंधन, पानी को स्त्रोत, 12वीं के विद्यार्थी भूगोल आधारित समस्याएं और उनके हल पढ़ेंगे।

विद्यार्थियों को पढ़ाए जाने वाले पाठ्यक्रमों व विषय से बहु विकल्पी प्रश्न और क्रियाएं भी करवाई जाएंगी। एक भारत श्रेष्ठ भारत के अधीन करवाई जाने वाली गतिविधियों की 100 शब्दों में लिखित रिपोर्ट और तस्वीरें मुख्य दफ्तर को भेजनी अनिवार्य होगी।

ड्रामा व नाटक के जरिये जल संरक्षण जागरूकता फैलाएंगे विद्यार्थी

जल संरक्षण के लिए विद्यार्थियों की तरफ से ड्रामा, रोल प्ले, थियेटर व नाटक का मंचन भी किया जाएगा। इसके अलावा शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन भी किया जाएगा। इसके जरिये विद्यार्थियों को पानी बचाने, प्लास्टिक का प्रयोग न करने आदि की गतिविधियां करवाई जाएंगी। जागरूकता के लिए एक्सपर्ट्स टाक का आयोजन हो, इसलिए स्टेट की तरफ से वेबिनार भी करवाए जाएंगे। इस दौरान पोस्टर्स व ड्राइंग कंपीटिशन भी करवाए जाएंगे।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप