जागरण संवाददाता, जालंधर : लंबी कवायद के बाद वीरवार को शहर के पटाखा कारोबारियों ने राहत की सांस ली है। सरकार के नए आदेशों के बाद अब जालंधर में पटाखे बिक भी सकेंगे और लोग त्योहारों में इसे चला भी सकेंगे। हालांकि इसके लिए कुछ गाइडलाइंस तय की गई है। जालंधर में अब बाकी पंजाब की तरह केवल ग्रीन पटाखे ही बेचे जा सकेंगे। हालांकि ग्रीन पटाखों को लेकर न तो व्यापारी अपडेट है व न ही पुलिस इसे लेकर खास जानकारी रखती है। लिहाजा, ब्रांडेड पटाखों को ही ग्रीन पटाखे मानकर इसे बेचा जाएगा। नए आदेशों में केवल लाइसेंस होल्डर ही पटाखे बेचने सकेंगे।

दरअसल, जिला प्रशासन ने शहर में पटाखों की बिक्री को लेकर 21 अक्टूबर को रेडक्रास भवन में ड्रा निकाले थे। वहां 20 व्यापारियों के ड्रा निकाले गए थे। तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के बाद इन 20 व्यापारियों को लाइसेंस जारी किए जाने थे लेकिन इसी बीच मंगलवार देर शाम सरकार ने जालंधर व मंडी गोबिदगढ़ में पटाखों की बिक्री पर रोक लगाने व अन्य जिलों में ग्रीन पटाखे बेचने की अनुमति दे दी। सरकार का तर्क था कि इन दो शहरों में प्रदूषण का स्तर अधिक है इसलिए पटाखे चलाने पर रोक रहेगी। सरकार के इस फैसले से व्यापारी नाराज थे और उन्होंने विधायकों के सामने मुद्दा उठाया था कि अब वे करोड़ों रुपये का सामान कहां फेकेंगे। वीरवार को नए आदेश जारी कर जालंधर में भी ग्रीन पटाखे चलाने की अनुमति दे दी गई। पुलिस व पीपीसीबी रखेगी नजर

नए आदेशों के मुताबिक निर्धारित नियमों को लागू करने के लिए पुलिस व पंजाब पल्यूशन कंट्रोल बोर्ड नजर रखेगा। दोनों विभागों पर कार्रवाई के अधिकार दिए गए है। यह नियम किए निर्धारित

- दुकान के बाहर लाइसेंस लगाना होगा

- लड़ी वाले पटाखे नहीं बेच सकेंगे

- विक्रेताओं को आग बुझाने वाला यंत्र रखना होगा जालंधर में पटाखे चलाने का समय

चार नवंबर दिवाली : रात आठ से दस बजे

------------------

19 नवंबर गुरुपर्व :

तड़के चार से पांच बजे व रात नौ से दस बजे

---------------------

25-26 दिसंबर क्रिससम

रात 11.55 बजे से 12.30 बजे

----------------------

नववर्ष की पूर्वसंध्या

रात 11.55 बजे से 12.30 बजे

Edited By: Jagran