जालंधर, जेएनएन। डीसी दफ्तर के लिए रखे कर्मचारियों से डीसी आफिस कांप्लेक्स की सफाई कराने को लेकर सोमवार को बवाल हो गया। सफाई कर्मचारी इस फरमान से भड़क उठे। उन्होंने सफाई करने से इन्कार कर दिया। उन्होंने दो-टूक कहा कि उनका काम सिर्फ दफ्तर के अंदर सफाई करने का है। उनसे बाहर का काम नहीं लिया जा सकता। विवाद बढ़ने पर पंजाब सफाई मजदूर फेडरेशन के प्रधान चंदन ग्रेवाल वहां पहुंचे और नाजर से बात की। इसके बाद तय हुआ कि ये कर्मचारी बाहर की सफाई नहीं करेंगे।

डीसी दफ्तर में आउटसोर्सिंग के जरिए सफाई कर्मी रखे हुए हैं। इनमें ज्यादातर महिलाएं हैं। उनकी जिम्मेदारी डीसी कांप्लेक्स के अंदर की सफाई करना है। सोमवार को उन्हें कांप्लेक्स में स्थित सेवा केंद्र के बाहर बने डंप को भी साफ करने को कहा गया। इससे कर्मचारी भड़क उठे और उन्होंने इससे इन्कार कर दिया। अफसरों के दबाव डालने पर उन्होंने फेडरेशन प्रधान को इसकी जानकारी दी।

इस बारे में चंदन ग्रेवाल ने कहा कि सफाई कर्मचारियों को बाहर काम करने को कहा जा रहा था जबकि उनकी ड्यूटी कांप्लेक्स के अंदर सफाई करने की है। इस बारे में वो जिला नाजर से मिले और इस बारे में बात की। नाजर को स्पष्ट कह दिया गया कि महिला कर्मचारियों की यहां ड्यूटी नहीं है। ऐसे में उनसे बाहर काम नहीं ले सकते। जिला नाजर महेश कुमार ने कहा कि सेवा केंद्र के बाहर कूड़े का डंप इकट्ठा हो गया था, इसलिए उन्हें हटाने के लिए डीसी कांप्लेक्स के कर्मचारियों को भेजा था। फिर फेडरेशन प्रधान चंदन ग्रेवाल आ गए। उन्होंने कहा कि मशीनरी भेजकर वो खुद इसे हटवा देंगे।

 
 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!