जागरण संवाददाता, जालंधर : गन्ने की बकाया राशि सहित अन्य मांगों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से वीरवार को नेशनल हाईवे जाम करने का फैसला टाल दिया है। वीरवार को जालंधर में वित्त एवं सहकारी मंत्री हरपाल सिंह चीमा के साथ बैठक कर मांगों की समस्या का समाधान किया जाएगा। इस बात की जानकारी संयुक्त किसान मोर्चा के वरिष्ठ सदस्य हरमीत सिंह तता मनजीत सिंह राय ने संयुक्त रूप से दी। उन्होंने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा में शामिल पंजाब के 16 किसान संगठन चीनी मिलों की ओर पड़े बकाया लेने के मामले को लंबे समय से संघर्ष कर रहे है। 26 मई को सुबह 10 से 2 बजे तक नेशनल हाईवे जाम करने की घोषणा की थी। राज्य के वित्त एवं सहकारिता मंत्री हरपाल सिंह चीमा की ओर से पत्र जारी कर जालंधर के सर्किट हाउस में 4.30 बजे बैठक करने की बात कही। इसके बाद नेशनल हाईवे जाम करने का फैसला फिलहाल टाल दिया है। वीरवार को केन कमिश्नर की ओर से 16 किसान संगठनों को बैठक में भाग लेने के लिए निमंत्रण दिया है। मामले को लेकर 16 किसान संगठनों के पदाधिकारियों ने बैठक कर रणनीति तैयार की। उन्होंने कहा कि राज्य की चीनी मिलों की तरफ 900 करोड़ रुपये के करीब बकाया पड़ा है। जिससे किसानों को दिक्कत हो रही है। बैठक में समस्या का समाधान होने पर संघर्ष तेज करने की चेतावनी दी है। बैठक में सतनाम सिंह साहनी, मुकेश चंद्र, संतोख सिंह संधू, रमिदर सिंह पटियाला, जंगवीर सिंह चौहान, बलविदर सिंह मल्ली नंगल, दविदर सिंह, कुलदीप सिंह वजीदपुर तथा अमरीक सिंह के अलावा अन्य किसान संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

Edited By: Jagran