जागरण संवाददाता, जालंधर। सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों का नेशनल अचीवमेंट सर्वे और सालाना परीक्षा से पहले उनका मूल्यांकन करने के लिए परीक्षाएं 13 सितंबर से शुरू हो रही है। परीक्षाएं आफलाइन होंगी और इसके जरिए विद्यार्थियों को पिछला सिलेबस और इसके जरिए उनकी तैयारी का आकलन करते हुए कमियों पर भी नजर रखी जाएगी। ताकि 12 नवंबर से शुरू होने वाले नेशनल अचीवमेंट सर्वे और उसके बाद सालाना परीक्षाओं में नतीजों को सुधारा जा सके। डीईओ सेकेंडरी हरिंदरपाल सिंह, उप जिला शिक्षा अधिकारी सेकेंडरी राजीव जोशी ने बताया कि छठी से 12वीं कक्षा विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम की सालाना परीक्षाएं, नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षाओं की तैयारी के लिए यह परीक्षाएं शिफ्टों में होंगी।

आठवीं, दसवीं और 12वीं की परीक्षाएं सुबह नौ बजे से होंगी, जबकि छठी, सातवीं, नौवीं और 11वीं की परीक्षाएं दोपहर 12 बजे से होगी। सभी कक्षाओं की परीक्षाओं के लिए सिलेबस अप्रैल से अगस्त तक का होगा। इसमें अप्रैल और मई महीने के पाठ्यक्रम से 25 फीसद, जुलाई से अगस्त तक के महीने से 75 फईसद प्रश्न पूछे जाएंगे। डेटशीट में शामिल विषयों के प्रश्न पत्र साफ्ट कापी के रूप में मुख्य दफ्तर की तरफ से भेजे जाएंगे, जबकि बाकी विषयों के प्रश्न पत्र स्कूलों की तरफ से अपने स्तर पर तैयार किए जाएंगे।

सभी कक्षाओं के प्रश्न पत्र बहुविकल्प के आधार पर होंगे। आठवीं, दसवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों का नैशनल अचीवमेंट सर्वे होना है, उनके विषय प्रश्न पत्रों का पैट्रन नेशनल अछीवमेंट सर्वे पर आधारित होगा। बहुविकल्प शीट मुख्य दफ्तर की तरफ से मुहैया करवाई जाएगी। ऐसे में अध्यापक सभी विद्यार्थियों के अभिभावकों को डेटशीट संबंधी जागरूक करें और कोविड-19 की सावधानियों का ध्यान रखें।

डीईओ प्राइमरी रामपाल सिंह और डिप्टी डीईओ गुरचरन सिंह मुलतानी ने बताया कि परीक्षाओं में तीसरी, चौथी, पांचवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए प्रश्न मुख्य दफ्तर की तरफ से भेजे जाएंगे। इसमें अगस्त महीने तक के पाठ्यक्रम से 20-20 बहुविकल्पीय प्रश्न शामिल होंगे। इसके अलावा स्वागत जिंदगी और आम ज्ञान की परीक्षा के लिए 10 बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे। तीसरी कक्षा की परीक्षा सुबह नौ, पांचवीं की सुबह साढ़े दस बजे और

चौथी कक्षा की परीक्षा दोपहर 12 बजे होगी।

 

Edited By: Vinay Kumar