जागरण संवाददाता, जालंधर : जालंधर वेस्ट हलके के विधायक शीतल अंगुराल की अवैध निर्माण को लेकर नाराजगी के बाद बड़ा एक्शन हुआ है। वेस्ट हलके में कई जगह हो रहे अवैध निर्माण समेत अन्य इलाकों पर आधारित रिपोर्ट पर नगर निगम की ज्वाइंट कमिश्नर गुरविदर कौर रंधावा ने मंगलवार को बिल्डिंग ब्रांच के चार असिस्टेंट टाउन प्लानर (एटीपी) और तीन बिल्डिंग इंस्पेक्टरों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इन सभी से तीन दिन में अवैध निर्माण को लेकर जवाब मांगा गया है।

ज्वाइंट कमिश्नर ने बिल्डिग ब्रांच के एमटीपी मेहरबान सिंह की रिपोर्ट पर एटीपी विकास दुआ, पूजा मान, वजीर राज सिंह, विनोद कुमार और बिल्डिग इंस्पेक्टर दिनेश जोशी, पाल पुनीत सिंह और निर्मल वर्मा को नोटिस जारी किए हैं। रंधावा ने कहा कि सोमवार को विधायक शीतल अंगुराल ने खुद निगम कार्यालय में आकर वेस्ट हलके समेत अन्य इलाकों में अवैध निर्माण का मामला उठाया था। उन्होंने कहा कि यह अत्यंत गंभीर मामला है और इसके बाद एमटीपी मेहरबान सिंह ने इसकी जांच की। एमटीपी की रिपोर्ट के आधार पर कारण बताओ नोटिस जारी किए गए हैं। पूरे मामले की विस्तृत जांच एसटीपी मोनिका आनंद को सौंप दी है। एसटीपी मोनिका आनंद तीन दिन में अपनी रिपोर्ट देंगी। रंधावा ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद नगर निगम पर कार्रवाई की बजाय सीधा चंडीगढ़ में लोकल डिपार्टमेंट को रिपोर्ट भेजें और वहीं से कार्रवाई तय होगी। शोकाज नोटिस जारी करने की जानकारी जगदीश राज राजा को भी दे दी है। यह है मामला

सोमवार को विधायक शीतल अंगुराल ने नगर निगम में बिल्डिंग ब्रांच के अधिकारियों की क्लास लगाई थी और कहा था कि उनके विधानसभा क्षेत्र में लगातार अवैध निर्माण हो रहे हैं। इसे लेकर पब्लिक की शिकायतें बढ़ हैं, जिसके बाद उन्हें खुद निगम कार्यालय आकर बात करनी पड़ी है। विधायक ने यह भी आरोप लगाया था कि निगम स्टाफ ने अवैध निर्माण के लिए मोटी वसूली की है और निगम के राजस्व को नुकसान पहुंचाया है। विधायक की नाराजगी के बाद ही ब्रांच में हलचल मची थी और 24 घंटे से भी कम समय में बड़ा एक्शन हो गया।

Edited By: Jagran