जालंधर, जेएनएन। सिविल अस्पताल में बुधवार रात को इमरजेंसी में तैनात मेडिकल अफसर डॉ. राजकुमार बदन पर मरीज के परिजनों के हमले के बाद विरोध शुरू हो गया है। वीरवार को सिविल अस्पताल के डॉक्टर उनके हक में उतर आए। उन्होंने धरना प्रदर्शन कर नारेबाजी की और डॉक्टरों की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाए जाने की गुहार लगाई।

बाद में सभी डॉक्टर्स ने मेडिकल सुपरिटेंडेंट से मुलाकात की और उन्हें मांगपत्र सौंपा। डॉक्टरों ने मेडिकल सुपरिंटेंडेंट से डॉक्टरों की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने के लिए अस्पताल परिसर में एक स्थाई पुलिस चौकी बनवाने की गुहार लगाई है। साथ ही, बुधवार की घटना के आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए जिला प्रशासन को सिफारिश करने की बात कही। प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने चेतावनी दी कि अगर तीन-चार दिन में समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वे हड़ताल कर संघर्ष  तेज करेंगे। इस मौके पर  डॉक्टर  चन्नजीव सिंह , डॉक्टर कश्मीरी लाल  ,डॉ मुकेश वर्मा  तेजिंदर सिंह,  डा. कामराज, डॉ रमन गुप्ता, डॉ हरवीन कौर, डॉ राकेश कुमार चोपड़ा, डॉक्टर परमिंदर सिंह, डॉ मनीष व अन्य डाक्टर मौजूद थे।

बता दें कि बुधवार की रात दो पक्षों में हुई लड़ाई के बाद घायल इलाज के लिए सिविल अस्पताल पहुंचे थे। इसी दौरान एक पक्ष के लोगों ने डॉ. राजकुमार पर पर हमला कर दिया था। घटना के बाद पुलिस ने डॉ. राजकुमार की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया था।

 

 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Pankaj Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!