जागरण संवाददाता, जालंधर

आरटीआइ एक्टिविस्ट सिमरनजीत सिंह और रविदर पाल सिंह चड्ढा के खिलाफ हाई कोर्ट में दायर याचिका के आधार पर डीजीपी को दी गई जांच अब जालंधर पहुंच गई है। पुलिस ने याचिकाकर्ता मेजर सिंह के बयान दर्ज कर लिए हैं। अब मेजर सिंह के कोर्ट में लगाए गए आरोपों की जांच शुरू होगी।

पंजाब खादी बोर्ड के डायरेक्टर मेजर सिंह ने डीसीपी गुरमीत सिंह को लिखित बयान में कहा है कि कालोनियों और प्रापर्टी कारोबारियों को ब्लैकमेल करने की साजिश में आरटीआइ एक्टिविस्ट सिमरनजीत सिंह और रविद्रपाल सिंह चड्ढा शामिल हैं। मेजर सिंह का आरोप है कि आरटीआइ एक्टिविस्ट प्रापर्टी कारोबारियों को आरटीआइ के जरिए डरा कर 400 करोड़ रुपये की वसूली कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में कई सीनियर कांग्रेस नेता भी शामिल हैं। मेजर सिंह ने डीसीपी को 420 कालोनियों और इमारतों की सूची भी दी है और कहा है कि इन सभी से आरटीआइ एक्टिविस्ट ने वसूली की है।

बता दें कि पिछले साल 28 दिसंबर को हाई कोर्ट ने मेजर सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए याचिका को डिस्पोज आफ करते हुए डीजीपी को सभी आरोपों की जांच चार हफ्ते में करने के निर्देश दिए थे। यह जांच अब जालंधर पहुंच चुकी है। मेजर सिंह के बयान दर्ज होने के बाद अब पुलिस को सभी आरोपों की जांच करनी है। ------------

चोरी की मोटरसाइकिल व गैस सिलेंडरों समेत दो काबू

संवाद सहयोगी, नकोदर : सिटी पुलिस ने चोरी के मोटरसाइकिल व गैस सिलेंडरों समेत दो लोगों को काबू कर केस दर्ज किया है। थाना प्रभारी जतिदर कुमार ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि मोहल्ला रहमानपुर का लक्की उर्फ काणा डाकू व मोहल्ला उधम सिंह नगर का संदीप उर्फ सीपा चोरी करने के आदी हैं। दोनों चोरी के गैस सिलेंडर बेचने के लिए ग्राहक की तलाश में पंडोरी मोड़ व मोहल्ला रहमानपुरा घूम रहे हैं। पुलिस ने दोनों को काबू कर दो गैस सिलेंडर व एक चोरी का मोटरसाइकिल बरामद कर लिया। पुलिस ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप