जालंधर, जेएनएन। वीरवार को दशम गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी का 363वां प्रकाशोत्सव शहर भर के गुरुघरों में पारंपरिक आस्था और उल्लाश से मनाया गया। सुबह ही बड़ी संख्या में संगत ने गुरुघरों में जाकर माथा टेका। इस मौके पर रागी जत्थों ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की इलाही बाणी के साथ संगत को गुरु चरणों से जोड़ा।

 

गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा मॉडल टाउन में श्री दरबार साहिब अमृतसर के हजूरी रागी भाई अमृतपाल सिंह और कथावाचक भाई अजीत सिंह रतन ने श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के जीवन पर प्रकाश डाला। गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष अजीत सिंह सेठी ने कहा कि खालसा पंथ की स्थापना कर श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने समूची संगत को अनमोल देन दी।

जालंधरः श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाशोत्सव पर शहर भर के गुरुघरों में बड़ी संख्या में संगत ने माथा टेका।

इसी तरह, गुरुद्वारा दुखनिवारण साहिब, गुरु तेग बहादुर नगर, गुरुद्वारा दीवान स्थान सेंट्रल टाउन, गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा बाजार शेखां, गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा अर्बन ईस्टेट और गुरुद्वारा गुरु नानक मिशन में भी समागम आयोजित किए गए। यहां बड़ी संख्या में संगत ने हाजिरी लगाई।

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!