जासं, अमलोह(फतेहगढ़ साहिब)। पंजाब में दिन प्रतिदिन डेंगू का खतरा बढ़ता जा रहा है। इसी कड़ी में हलका अमलोह के विधायक गुरिंदर सिंह गैरी वड़िंग के पैतृक गांव मछराए खुर्द में डेंगू के 21 पाजिटिव केस मिले हैं। यह सभी केस एक सप्ताह के दौरान सामने आए हैं।

बता दें कि, इस गांव की आबादी करीब एक हजार है, जबकि यहां पर लगभग 200 घर हैं। अब तक सामने आए 21 केसों के बावजूद भी सेहत विभाग ने 25 लोगों की सैंपलिंग की है। विभाग अधिकरी कह रहे हैं कि जिस व्यक्ति को बुखार अथवा डेंगू का लक्षण दिखाई देता है तो उसकी सैंपलिंग करवाई जा रही है।

विभाग के मुताबिक 25 जून को गांव मछराए खुर्द में दो डेंगू के केस मिले थे, जिसके बाद विशेष तौर पर शिविर लगाकर बीमार लोगों की जांच की और 19 लोगों के सैंपल लिए गए थे। उनकी 27 जून को रिपोर्ट आई तो 18 डेंगू के केस मिले। 3 केस 30 जून को सामने आए थे।

जिले में अब तक 24 डेंगू मरीज मिले

गांव में डेंगू पीड़ितों में विभिन्न परिवारों में 14 पुरुष तथा 7 महिलाएं शामिल थी। सेहत विभाग के अनुसार गांव मछराए खुर्द के 21 केसों में से मौजूदा समय में 6 ही मरीज पीड़ित हैं, जिनमें से 2 का अस्पताल व 4 मरीजों को उनके घरों में ही उपचार चल रहा है। शेष मरीज जिनमें डेंगू के मामूली लक्ष्ण थे सभी ठीक हैं। जिले में अब तक कुल 24 केस डेंगू के मिल चुके हैं।

घरों के पास जमा न होने दें पानी

डिप्टी मेडिकल कमिश्नर डाक्टर जगदीश सिंह ने बताया कि डेंगू बुखार मादा एडीज अजैपटी नामक मच्छर के काटने से होता है। इसको टाइगर मोसकिटो कहा जाता है। यह मच्छर कूलर, फ्रिज में लगी ट्रे, गमले, घरों की छत्त पर फेंके पुराने टायर में पानी जमा होने से पैदा होते हैं। इसलिए अपने घरों के पास पानी जमा न होने दें।  

यह भी पढ़ेंः- दुष्कर्म मामले में पंजाब के पूर्व विधायक सिमरजीत बैंस का भाई गिरफ्तार, लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष की तलाश में छापामारी

Edited By: Deepika