मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, जालंधर। सोमवार सुबह फिर से इंसानियत शर्मसार हो गई। फिर किसी ने अपनी मां से पूछा होगा कि उसका क्या कसूर है जो उसे जन्म से पहले ही कत्ल कर दिया। वो भी तब जब यही नहीं पता था कि मरने वाला लड़का है या लड़की। किसी कुंवारी मां की करतूत होने की आशंका के नहर में तैर रहे भ्रूण को देखकर हर कोई सिहर उठा। सुबह करीब आठ बजे बस्ती बावा खेल नहर में चार माह का भ्रूण मिलने से सनसनी फैल गई। लोगों ने भ्रूण पानी में तैरते देख पुलिस को सूचना दी। नहर में जमा कूड़े के ढेर में फंसकर भ्रूण वहीं रुक गया। मौके पर पहुंचे थाना बस्ती बावा खेल प्रभारी मेजर सिंह ने बताया कि भ्रूण अभी इतना भी विकसित नहीं था कि उसके नर या मादा होने का पता चल सके। आसपास रहने वाली दाइयों और अस्पतालों से इस मामले की जानकारी ली जा रही है।

पहले भी सामने आ चुके हैं ऐसे मामले

ये कोई पहला ऐसा मौका नहीं है, जिसमें किसी ने ऐसी घिनौनी हरकत को अंजाम दिया हो। अभी बीती चार जुलाई को डीएवी कॉलेज नहर के पास किसी ने नवजात को फेंक दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला था कि उसे जिंदा ही पानी में फेंक दिया गया था। आज तक उसे फेंकने वाले का कुछ नहीं पता चला क्योंकि शव कहीं और से बहकर आया था। इसके बाद दूसरे ही दिन पांच जुलाई को इसी जगह पर मादा शिशु का भ्रूण मिला था और वह भी कहीं और से तैरकर आया था। इस मामले में भी आज तक कुछ पता नहीं चला है।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए  यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!