जागरण संवाददाता, जालंधर : बबरीक चौक स्थित पार्क के एक कोने पर मंगलवार देर रात एक व्यक्ति की लाश मिली। 38 वर्षीय दीपक इनवर्टर मैकेनिक का काम करता था। दीपक के अपनी पत्नी से काफी झगड़े होते थे। पिता सुभाष ने दोनों को अलग रहने के लिए कह दिया था जिसके बाद दोनों अलग रहने लगे। कुछ समय बाद पत्नी दीपक को छोड़कर चली गई तो दीपक दोबारा अपने मां-बाप के साथ रहने लग पड़ा था।

उसी मां शारदा रानी ने बताया कि बेटा सुबह काम के लिए घर से निकला था। देर रात घर पर वापस नहीं आया। जब फोन किया तो स्विच आफ था। पड़ोसी ने घर जाकर सूचना दी कि दीपक की लाश पार्क में पड़ी हुई है। यह सुनकर वह बेसुध हो गई। पुलिस ने लाश को पोस्टमोर्टम के लिए सिविल अस्पताल में भेज दिया जिसके बाद दीपक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मां ने आरोप लगाया कि सुबह बेटा बाइक लेकर गया था। न बाइक मिली और न मोबाइल फोन और न ही जेब में पर्स था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दीपक के पोस्टमोर्टम करने वाले डाक्टरों की टीम ने बताया कि पार्क में सैर करते समय दीपक को हार्ट अटैक आने मौत हो सकती है, लेकिन असली कारणों का पता विसरा की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा, क्योंकि शरीर पर किसी भी प्रकार के जख्म नहीं हैं। उधर बेटे की लाश को देखकर मां का रो-रो कर बुरा हाल था। आंसू नहीं थम रहे थे। बेटे की लाश को देखकर मां जमीन पर गिर गई। थाना पांच के प्रभारी रविदर कुमार ने कहा कि रात को कंट्रोल रूप में सूचना मिली थी। पारिवारिक सदस्यों की ब्यानों के आधार पर 174 की कार्रवाई की गई है।

Edited By: Jagran