Move to Jagran APP

पंजाब में 25 तक बंद रहेंगे स्कूल और कालेज, कोरोना की तीसरी लहर में पहली बार 24 घंटे में 22 मौतें

Punjab School Closed पंजाब में पटियाला में सर्वाधिक छह और लुधियाना में पांच लोगों की मौत हुई। इन दो जिलों के अलावा अमृतसर में तीन होशियारपुर फतेहगढ़ सहिब व गुरदासपुर में दो-दो और संगरूर व मोहाली में एक-एक मरीज की जान गई।

By Pankaj DwivediEdited By: Sun, 16 Jan 2022 10:44 AM (IST)
तीसरी लहर में पहली बार एक दिन में कोरोना के 22 मरीजों ने एक दिन में दम तोड़ दिया।

जागरण टीम, चंडीगढ़/जालंधर। पंजाब में कोरोना की तीसरी लहर में शनिवार को पहली बार एक दिन में 22 लोगों की मौत हो गई, जबकि 6883 नए केस सामने आए। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गृह विभाग की ओर से पंजाब में कोरोना को लेकर लगाई गईं पाबंदियों को 25 जनवरी तक बढ़ा दिया है। राज्य में रात 10 बजे से लेकर सुबह पांच बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा और सभी शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। स्कूल, कालेज व विश्वविद्यालयों में आनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी। कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। मेडिकल और नर्सिंग कालेज सामान्य रूप से काम करेंगे।

इनडोर में 50 और आउटडोर में 100 से ज्यादा लोगों को अनुमित नहीं

गृह विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार किसी समारोह में इनडोर में 50 और आउटडोर में 100 से ज्यादा लोगों के एकत्र होने पर भी पाबंदी लगा दी गई है। इसके साथ ही सार्वजनिक स्थलों, मंडियों, बाजार, सरकारी और गैर सरकारी आफिस में जाने वाले लोगों के वैक्सीन की दोनों डोज लगा होना और मास्क पहनना अनिवार्य होगा। मास्क न पहनने वालों को आफिस में कोई सुविधा नहीं मिलेगी। सरकारी और निजी आफिस, कारखानों व उद्योगों में वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले कर्मचारी ही काम कर सकेंगे। बार, सिनेमा, मल्टीप्लेक्स, माल, रेस्तरां, स्पा, संग्रहालय, चिड़ियाघर 50 प्रतिशत क्षमता पर खुल सकेंगे। परंतु यहां आने वाले और यहां पर काम करने वालों को वैक्सीन की दोनों डोज लगी होनी चाहिएं। एसी बसें 50 प्रतिशत क्षमता पर चलाई जा सकेंगी।

पटियाला में सबसे ज्यादा 6 मौतें

इस बीच, शनिवार को पटियाला में सर्वाधिक छह और लुधियाना में पांच कोरोना मरीजों की मौत हुई। कोरोना संक्रमित बठिंडा की एक गर्भवती महिला की मृत बच्ची को जन्म देने के बाद मौत हो गई। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 37546 हो गई है। इनमें 908 मरीज (2.41 प्रतिशत) ही अस्पतालों में आइसोलेट हैं जबकि शेष मरीजों को घरों में ही आइसोलेट किया गया है।

यह भी पढ़ें - जानें कौन हैं सुखविंदर कोटली, जिन्होंने सीएम चन्नी के रिश्तेदार मोहिंदर केपी को पछाड़ आदमपुर से हासिल की कांग्रेस टिकट