जालंधर, [कमल किशोर]। अब कोच खिलाड़ियों को ट्रेनिंग देने से पहले इंफ्रारेड थर्मामीटर के साथ शरीर का तापमान चेक करते दिखाई देंगे। फिलहाल अभी जिला खेल सेंटर बंद पड़े हुए हैं। 31 मई के बाद खेल विभाग की ओर से नई गाइडलाइन के बाद ही स्टेडियम में खेलों की ट्रेनिंग हो पाएगी। गाइडलाइन के मुताबिक विभाग कौन सी खेलें शुरू करने जा रहा है। यह तो आने वाले समय में ही पता चलेगा। फिलहाल जिला खेल विभाग ने हेड ऑफ‍िस चंडीगढ़ को खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए सैनिटाइजर व थर्मामीटर की मांग रखी है।

फिलहाल विभाग के पास न ही थर्मामीटर है न ही सैनिटाइजर है। ट्रेनिंग में उन्हीं खिलाड़ियों को प्रवेश मिलेगा, जो स्वस्थ होगा। अगर खिलाड़ी को बुखार हुआ, या फिर कोविड-19 वायरस के लक्ष्ण दिखाई दिए, तो ट्रेनिंग में शामिल नहीं किया जाएगा। खिलाड़ियों को ट्रेनिंग से पहले चेकअप किया जाएगा। कोचों को हिदायतें जारी की हुई है कि खिलाड़ियों को ट्रेनिंग छोटे-छोटे ग्रुप बनाकर देनी होगी। बाॅडी टच वाली खेलों से फिलहाल परहेज किया जाए। ट्रेनिंग के कोचों को ध्यान रखना होगा कि खिलाड़ी मैदान में थूक तो नहीं रहा। खिलाड़ी मैदान में लेट कर कसरत या बैठा हुआ तो नहीं है। फिलहाल ट्रेनिंग के दौरान कोचों की जिम्मेवारी बढ़ जाएगी।

स्वयं का सैनिटाइजर पास रखने के लिए कहेंगे

जिला खेल विभाग का कहना है कि ट्रेनिंग के दौरान खिलाड़ियों को स्वयं के पास सैनिटाइजर रखने की बात कहेंगे। क्विपमेंट सैनिटाइज करने के लिए कहेंगे। शारीरिक दूरी बनाने के साथ-साथ माॅस्क पहने के लिए कहेंगे। फिलहाल खिलाड़ियों को किसी भी प्रकार की चीज को शेयर करने से रोंकेगे।

सैनिटाइजर व थर्मामीटर की मांग भेजी

जिला खेल अधिकारी गुरप्रीत सिंह ने कहा कि खेल विभाग चंडीगढ़ को सैनिटाइजर व थर्मामीटर भेजे जाने की मांग रख चुके हैं। नई गाइडलाइन के मुताबिक ही खिलाड़ियों को ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग के दौरान कोचों की जिम्मेवारी अधिक बढ़ जाएगी। खिलाड़ियों का सुरक्षा के मद्देनजर ध्यान रखना होगा। क्विपमेंट सैनिटाइज करने के लिए भी कहेंगे। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sat Paul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!