जागरण संवाददाता, जालंधर : पीपीसीबी की टीम ने शनिवार को जालंधर व कपूरथला के गांवों का दौरा कर एसएमएम युक्त कंबाइन की वर्किग का जायजा लिया। इस दौरान जालंधर के गांव जमशेर के निकटवर्ती गांव दिवाली व फगवाड़ा के गांव हदियाबाद में किसान बिना एसएमएस की कंबाइन से खेतों में धान की कटाई कर रहे कुल पांच किसानों को नोटिस जारी किए।

किसान दलजीत ¨सह निवासी गांव दिवाली व मो¨हदर ¨सह निवासी गांव हदियाबाद को नोटिस जारी किया गया। मौके पर उक्त किसानों ने बताया कि एसएमएस युक्त कंबाइन से किसानों को कटाई मंहगी पड़ती है। वहीं कटाई के बाद पराली के टुकड़े खेतों में से जमा करना मुश्किल है। छोटे टुकड़े पशुओं के खाने लायक भी नहीं रहते। उन्होंने बताया कि वो बिना एसएमएस के कंबाइन के कटाई कर पराली को बचा लेते है। जिन्हें गुज्जरों को बेच दिया जाता है। इससे कुछ पैसे भी मिल जाते हैं। गांव लल्लिया के निकट डेरा लगा बैठे गुज्जर शेख मुहम्मद का कहना है कि उन्होंने मो¨हदर ¨सह से पराली खरीदने का वादा किया है। पराली को पशुओं के चारे व सर्दी में जमीन पर बिछाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। इन्होंने आश्वासन दिया है कि वे पराली नहीं जलाएंगे बल्कि उसे बेचकर कमाई करेंगे। इस पर पीपीसीबी ने इन दोनों को नोटिस जारी कर दिया है।

पीपीसीबी के एक्सईएन अरुण कक्कड़ ने बताया कि जिला कपूरथला के गांव काला संघा ईशरवाल, लल्लिया कलां, धनोदी से बिना एसएमएस के कंबाइन चलाने की शिकायत मिली थी। उसके आधार पर टीम ने कार्रवाई की। इन गांवों में किसानों ने एसएमएस वाली कंबाइन चलाने का विरोध किया है। उनका कहना था कि एसएमएस के इस्तेमाल के बाद पराली पशुओं के खाने लायक नहीं रहती है। टीम ने मौके पर तीन किसानों को नोटिस थमा दिए।

Posted By: Jagran