जालंधर, जेएनएन। वसंत विहार एक्सटेंशन में रहने वाले एनआरआइ गुरप्रीत सिंह की पत्नी जसप्रीत कौर के गले से झपटमार चेन छीनकर फरार हो गए। बिना नंबर की एक्टिवा सवार युवकों की ओर से की गई झपटमारी की घटना वहां लगे सीसीटीवी में भी कैद हो गई। दोनों झपटमारों ने हेलमेट पहन रखा था।

हार्डवेयर की दुकान करने वाले जसप्रीत कौर के ससुर बलविंदर सिंह ने थाना सात की पुलिस को बताया कि उनका बेटा गुरप्रीत सिंह कनाडा में रहता है। उनकी बहू जसप्रीत कौर किसी काम से अपने बेटे के साथ बाहर गई थी। जब वह वापिस लौटकर घर के बाहर एक्टिवा खड़ी कर रही थी, तभी एक्टिवा सवार दो युवक उसके पास आए और किसी का पता पूछने लगे। इस दौरान एक युवक एक्टिवा से उतरा और उसकी चेन छीनने लगा जबकि दूसरे युवक ने एक्टिवा पीछे की ओर मोड़ ली।

जसप्रीत कौर ने विरोध किया लेकिन उसकी एक्टिवा पर आगे बेटा खड़ा था जिसके चलते वह बेटे को बचाने में लग गई। इस दौरान झपमटार ने चेन छीनी और एक्टिवा पर बैठ कर निकल गया।

थानों में धक्के न खाने पड़ें, इसलिए नहीं करवाई थी एफआइआर

हार्ड वेयर व्यापारी बलविंदर सिंह ने बताया कि शिकायत थाना सात की पुलिस को दे दी थी। उन्होंने बताया कि थाने में बहू को धक्के न खाने पड़ें। इस कारण एफआइआर करवाने के लिए नहीं गए। हालांकि वह अपने रिश्तेदारों के साथ दोबारा थाने में जाएंगे और एफआइआर दर्ज करवाएंगे।

महीने में दस से ज्यादा हो चुकी हैं झपमटारी की वारदातें

बीते एक महीने में शहर में झपटमारी की दस से ज्यादा वारदातें हो चुकी हैं। 20 सितंबर को फोकल प्वाइंट निवासी रिंकू देवी से कचहरी चौक पर बाइक सवार फोन छीन कर फरार हो गए थे। 20 सितंबर को गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू में रहने वाले कृपाल कौर पत्नी हरबंस सिंह का पर्स बाइक सवार झपटमार छीन कर फरार हो गए। 24 सितंबर को गाजियाबाद से जालंधर के बस्ती गुजां में रहते अपने भाई को मिलने आई कनिका पत्नी अशोक कुमार का मिशन चौक के पास बाइक सवार पर्स झपट ले गए। 28 सितंबर को बस्ती शेख में रहने वाली नीरू पत्नी विपन कुमार से पारस एस्टेट में एक्टिवा सवार महिला पर्स छीन कर फरार हो गई। हालांकि 27 सितंबर को आदर्श नगर में रहने वाले एक डाक्टर के घर के बाहर खड़ी उसकी पत्नी बालियां झपट कर भाग रहे झपटमारों को लोगों ने काबू कर लिया था और अच्छी तरह से धुनाई कर पुलिस के हवाले कर दिया था।

सीपी के आदेश को ठेंगा दिखा रहे अफसर, पुलिस चालान काटने में व्यस्त

त्योहारी सीजन और पंजाब में अशांति फैलाने की पाकिस्तान की साजिश बेनकाब होने के बावजूद शहर में न तो पुलिस अफसर सतर्क नजर आ रहे हैं और न ही पुलिस। यह हालात तब हैं जब सीपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने सभी पुलिस अधिकारियों को दफ्तरों की बजाय फील्ड में उतरने के आदेश दे रखे हैं। इसके साथ ही करीब 1500 पुलिस मुलाजिमों की बड़ी फोर्स को शहर में तैनात किया गया है। इसके बावजूद न तो शहर में कोई पुलिस अफसर दिखाई देता है और न ही पुलिस मुलाजिम। इसी बात का फायदा शहर में झपटमार उठा रहे हैं। आए दिन झपटमारी कर वे पुलिस को भी खुली चुनौती दे रहे हैं, लेकिन पुलिस इन पर अंकुश लगाने की बजाए चालान काटने में ही व्यस्त नजर आ रही है।

बेटा पास न होता तो पकड़ लेती लुटेरों का गिरेबां

जसप्रीत कौर ने बताया कि जब एक्टिवा सवार उसके पास आए और किसी के घर का पता पूछने लगे तो दोनों के सिर पर हेलमेट देख उसका माथा ठनका। उसने जल्दी-जल्दी सारा पता बताया, ताकि वो वहां से निकल जाएं। लेकिन दोनों युवक पास ही मंडराने लगे। उसकी एक्टिवा पर आगे छोटा बेटा था तो वह उसकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हो गई। जैसे ही झपटमारों ने उसकी चेन झपटी तो वह उनसे भिड़ने लगी, लेकिन उसे बच्चे का डर सताने लगा कि कहीं उसे चोट न लग जाए या वो बच्चे को कुछ न कर दें। ऐसे में उसने उनको चेन ले जाने दी लेकिन उनके जाते ही शोर मचा दिया। यदि बेटा एक्टिवा पर न होता तो उन झपटमारों का गिरेबां पकड़ कर गिरा लेती और बताती किसी महिला की चेन छीनने वाले का हश्र कैसा होता है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!