जेएनएन, जालंधर। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शनिवार को जब कॉरिडोर के बहाने मिले तो दोनों के बीच मुख्य रूप से कॉरिडोर को लेकर ही बात हुई, लेकिन जीरो लाइन से करतारपुर साहिब तक बस यात्रा के दौरान एक और विषय पर चर्चा हुई, जिसमें दोनों की समान रुचि दिखी। यह था क्रिकेट।

निश्चित रूप से क्रिकेट हर भारतीय और पाकिस्तानी के बीच एक सूत्र के रूप में काम करता है। किक्रेट को लेकर दोनों देशों में जुनून भी एक जैसा ही है। इस चर्चा में इमरान और कैप्टन के परिवारों के बीच एक अनूठा संबंध निकल आया। यह तब की बात है जब कैप्टन और इमरान एक-दूसरे से न तो मिले थे और न ही एक-दूसरे को जानते थे।

कैप्टन ने इमरान को बताया कि उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को उनके क्रिकेट के दिनों में खेलते हुए देखा था। इस बात से कैप्टन ने भारत-पाक के क्रिकेट संबंधों को और गहरा कर दिया। कैप्टन ने इमरान को बताया कि उनके (इमरान के) चाचा जहांगीर खान ब्रिटिश राज के दौरान क्रिकेटर थे। उन्होंने पटियाला में मोहम्मद निसार, लाला अमरनाथ के साथ भी क्रिकेट खेला था।

तेज गेंदबाज अमर सिंह, बल्लेबाज वजीर अली और अमीर अली भी इनमें शामिल थे। ये सभी खिलाड़ी कैप्टन अमरिंदर के पिता महाराजा यादविंदर सिंह की कप्तानी में (1934-35) भारत और पटियाला की टीम का हिस्सा थे। इमरान के लिए यह नई जानकारी थी। उन्होंने बड़े आनंद के साथ कैप्टन की बातें सुनीं। बस की यह यात्रा मात्र पांच मिनट से भी कम समय तक चली, लेकिन क्रिकेट प्रेम के कारण इमरान और कैप्टन के बीच रिश्तों की बर्फ पिघलाने के लिए यह पर्याप्त थी।

इमरान और पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने पहले जीरो पॉइंट पर मुख्यमंत्री और उनके प्रतिनिधिमंडल का स्वागत किया फिर कैप्टन ने उम्मीद जताई कि करतारपुर कॉरिडोर के माध्यम से शुरू हुई यात्रा भविष्य में दोनों देशों के बीच एक मजबूत संबंध बनाने में अहम कड़ी साबित होगी। दोनों पक्ष भविष्य में सच्ची खेल भावना के साथ खेलने का प्रयास करेंगे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!