जेएनएन, दसूहा। होशियारपुर जिले में स्थित दसूहा के मोहल्ला कैंथा में कुछ दिन से सुर्खियों में था। यहां एक घर में सरेआम देह व्यापार के धंधे की खबरें मिल रही थी। लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी तो थी, लेकिन हर बार ट्रैप लगाने के बावजूद कुछ हाथ नहीं लग रहा था। आखिरकार शनिवार को गुप्त सूचना के आधार पर ट्रैप लगाकर पुलिस ने कार्रवाई को अंजाम दिया। पुलिस ने धंधे में लिप्त तीन महिलाओं सहित व्यक्ति को काबू किया है।

ट्रैप के दौरान पुलिस ने मुलाजिम को फर्जी ग्राहक बनाकर अड्डे पर भेजा और जब सारा मामला साफ हो गया तो उक्त मुलाजिम ने पहले से कार्रवाई के लिए तैयार टीम को इशारा किया और छापेमारी सफल रही। पुलिस ने धंधा चलाने वाली महिला सहित दो अन्य महिलाओं व एक व्यक्ति को मौके पर ही हिरासत में ले लिया। इसके बाद चारों आरोपितों पर मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू की गई।

आरोपित महिलाओं की पहचान जसवीर कौर उर्फ गुड निवासी वार्ड 10 कैंथा मोहल्ला, गुरप्रीत कौर उर्फ प्रीति निवासी उस्मान शहीद और प्रीति राठौर निवासी गांव चंद जिला लखनऊ, उत्तर प्रदेश हाल निवासी कैंथा मोहल्ला और मनदीप सिंह उर्फ बाबी निवासी बसोआ थाना दसूहा के रूप में हुई है। जसवीर कौर अपने घर में देह व्यापार कराती थीं।

मोबाइल पर ही होती थी सेटिंग

कार्रवाई की अगुवाई करने वाली महिला थाना दसूहा की इंचार्ज इंस्पेक्टर कमलेश कौर ने बताया कि कैंथा मोहल्ला में देह व्यापार काफी समय से चल रहा था। सूचना मिल रही थी कि मोहल्ले में रहने वाली जसवीर कौर उर्फ गुड घर में देह व्यापार का अड्डा चला रही है। पहले तो लोगों को इसका पता नहीं चला, लेकिन धीरे-धीरे जब गलत तरह के लोग इलाके में घूमने लगे तो शक होने लगा। इसके बाद पुलिस को गुप्ता सूचना मिली कि इलाके में देह व्यापार चल रहा है।

पुलिस ने ट्रैप लगाया, लेकिन आरोपित इतनी चालाकी से काम कर रही थी कि पता ही नहीं चल पा रहा था। हर बार ट्रैप फेल हो रहा था। आरोपित मोबाइल पर ही सेटिंग करके काम चला रही थी। गत दिवस एक बार फिर सूचना मिली कि देह व्यापार जिस घर में चलता है वहां तीन महिलाएं और कुछ आदमी मौजूद हैं। पुलिस ने तुरंत ट्रैप लगाया, लेकिन एकदम छापेमारी करना सही नहीं था। पहले सच्चाई का पता लगना बहुत जरूरी था, ताकि कोई सवाल न खड़ा कर सके।

रेट तय होने के बाद महिला को मुलाजिम के साथ भेजा इंस्पेक्टर

कमलेश कौर ने बताया कि सूचना पुख्ता है या नहीं इसकी जांच करने के लिए सहयोगी को फर्जी ग्राहक बनाकर अड्डे पर भेजा गया। उसने वहां जाकर रेट आदि तय किया। जब धंधा करने वालों को पूरा यकीन हो गया तो उन्होंने फर्जी ग्राहक के साथ महिला को भेज दिया। जैसे ही मामला साफ हुआ तो मुलाजिम ने पहले से तैयार टीम जो मोहल्ले के आसपास घूम रही थी को इशारा किया। इसके बाद छापेमारी कर तीन महिलाओं व एक व्यक्ति को काबू कर लिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप