जासं, जालंधर। बीएड टेट पास बेरोजगार अध्यापक यूनियन के सदस्यों का 26वें दिन का प्रदर्शन आज होगा। जिसमें पांच सदस्य भूख हड़ताल पर बैठेंगे ही और मनीष-जसवंत घुबाया पानी की टंकी पर ही रह कर प्रदर्शन में रह कर साथ देंगे। वहीं शिक्षा मंत्री परगट सिंह को उनकी मांगें मानने को लेकर दिये गए समय का भी आज ही अंतिम दिन होगा। क्योंकि जब मीटिंग में समय मांगा था तो यूनियन के सदस्यों ने उस तय समय के अगले ही दिन प्रदर्शन करने की भी चेतावनी दी थी। जिसके तहत ही 23 नवंबर को शिक्षा मंत्री की कोठी का घेराव किया जाएगा। इस प्रदर्शन को लेकर एक्शन प्लान के लिए सोमवार के यूनियन के सदस्यों की तरफ से मीटिंग भी की जाएगी। ताकि इस प्रदर्शन में यूनियन की स्ट्रेंथ भी दिखाई जा सके।

अभी तक जनरल बस स्टैंड में पानी की टंकी पर सदस्यों की शांतमय ढंग से प्रदर्शन किया जा रहा है और बीच-बीच में अपनी मांगों संबंधी सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए दो बार शिक्षा मंत्री की कोठी का घेराव कर प्रदर्शन भी कर चुके हैं। जिसके तहत उन्हें दोनों ही बार मीटिंग पर बुलाकर उनकी मांगों को पूरा करने के लिए समय की ही मांग की गई थी।

प्रदेश प्रधान सुखविंदर सिंह ढिलवां और अमन सेखो का कहना है कि सरकार की तरफ से विद्यार्थियों को शिक्षा का अधिकार दिलाना केवल नाम का ही है। क्योंकि उनके लिये विषय विशेषज्ञ अध्यापकों की पोस्टें सरकार की तरफ से घटाई जा रही है। एक अध्यापक को अपनी विशेषज्ञता वाले विषय के अतिरिक्त विषय पढ़ाने की जिम्मेदारी दी जा रही है। इसलिए उनकी यही मांग है कि सरकार जल्द से जल्द हिंदी, पंजाबी और एसएसटी विषय की नौ हजार पोस्टों का नोटिफिकेशन जारी करे।

इसी मांग को लेकर 17 नवंबर की मीटिंग में सरकार की तरफ से 22 नवंबर तक उनकी मांगों को पूरा करने आश्वासन दिया था। यूनियन ने 22 नवंबर तक मांगें पूरी न करने पर 23 नवंबर को धरने की चेतावनी दी थी। इस मौके पर हरप्रीत सिंह हैप्पी, कुलविंदर कौर, रशनप्रीत सिंह, कुलवंत सिंह, नवनीत सिंह, गुरवीर सिंह, नीशू, रितू, नीरू, डोली, पूजा, मनप्रीत कौर, सुनील कुमार, हरप्रीत सिंह, टेक सिंह आदि थे।

ये भी पढ़ेंः Jalandhar Today 22nd November 2021: लोगों को आज फिर से लगाई जाएगी वैक्सीन, जानें और क्या है खास

Edited By: Vinay Kumar