संवाद सूत्र,बटाला। पिछले लगभग ढाई दशकों से बटाला को जिला बनाने के लिए समय-समय पर आवाज बुलंद करने वाली आजाद पार्टी, उसकी सहयोगी पार्टियों शिवसेना बाल ठाकरे और लोक इंसाफ पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा बटाला को जिला ना बनाए जाने के विरोध में रोष प्रदर्शन किया। उन्होने गांधी चौक में चक्का जाम किया। सुरिंदर सिंह कलसी, रमेश नैयर और विजय त्रेहन के नेतृत्व में किए गए इस धरना प्रदर्शन में काफी संख्या में लोगों ने भाग लिया। इस दौरान कुछ समय के लिए गांधी चौक के चारों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। वाहन चालक प्रदर्शनकारियों से उलझते हुए भी देखे गए।

डिप्टी सीएम अपनी मांग स्वयं पूरी करें- कलसी

बाबा के विवाह पर्व पर पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा बटाला को जिला ना बनाए जाने से खफा आजाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरिंदर कलसी ने कैप्टन पर बरसते हुए कहा कि ऐतिहासिक शहर से दगा करने का खामियाजा आज महाराजा साहब को अपनी कुर्सी गंवाकर भुगतना पड़ रहा है। चरणजीत सिंह चन्नी सरकार में सुखजिंदर सिंह रंधावा को उप मुख्यमंत्री बनाए जाने पर बधाई देते हुए कलसी ने रंधावा को याद दिलाया कि उन्होंने तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा के साथ मिलकर दो बार कैप्टन को बटाला को जिला बनाने के लिए पत्र लिखा था। इसलिए अब वे अपनी यह मांग खुद पूरी करें और बटाला को 30 सितंबर तक जिला घोषित करें।

इस दौरान शिवसेना बाल ठाकरे के प्रांत उपाध्यक्ष रमेश नैयर तथा लोक इंसाफ पार्टी के विजय त्रेहन ने संयुक्त रूप से कहा की बटाला जिला बनने की हर शर्तें पूरी करता है। यह स्वयं उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा भली भांति जानते हैं। इसलिए माझा के यह दोनों जरनैल मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से बटाला को तुरंत जिला घोषित करवाएं।

यह भी पढ़ें - पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार, सिद्धू बने असली सरदार, 'गुरु' का सुपर सीएम जैसा रुतबा

Edited By: Pankaj Dwivedi