जागरण संवाददाता, जालंधर : ट्रांसपोर्ट नगर में दिल्ली गाड़ियां भेजे जाने के विवाद में सतकरतार ट्रांसपोर्ट के मालिक को विरोधी ट्रांसपोर्टर ने साथियों के साथ मिलकर पीट डाला। जख्मी अवस्था में उसे सिविल अस्पताल भर्ती कराया गया। थाना डिवीजन आठ की पुलिस ने पवार ट्रांसपोर्ट के मालिक व भाई समेत कुल सात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

रामा मंडी के बलदेव नगर निवासी मनिदर सिंह पुत्र गुरविदर सिंह ने थाना डिवीजन आठ की पुलिस को दिए बयान में बताया कि वह ट्रांसपोर्टर है। ट्रांसपोर्ट नगर में उसका सत करतार ट्रांसपोर्ट के नाम से दफ्तर है। इसी दफ्तर में उन्होंने अपने व मुंशी राजू के लिए रिहायश भी बना रखी है। सात दिसंबर को वह दफ्तर में मौजूद थे तो दोपहर 12 बजे पवार ट्रांसपोर्ट का मालिक मनी, उसका भाई दीप, मुंशी पुरषोत्तम, ड्राइवर गोपी, उसका भाई साधु और कुछ अन्य अज्ञात लोगों के साथ आए और मारपीट शुरू कर दी। मनी ने अपनी पिस्तौल निकाली और धमकाते हुए कहा कि अब बताओ। उसके भाई दीप ने मेरी पीठ पर बेसबॉल बैट मारने शुरू कर दिए। मनी के मुंशी पुरषोत्तम ने उसके सिर पर सरिया मारा और बाकियों ने भी उसे पीटा। फिर उन्होंने उसके दफ्तर में तोड़फोड़ शुरू कर दी। दफ्तर का एसी, फ्रिज व अलमारी तोड़ दी। साथ ही मेरे मुंशी राजू का मोबाइल भी छीन लिया। राजू किसी तरह दीवार फांदकर जान बचाकर भागा। वहीं, उसके (मनिंदर) जमीन पर गिरने के बाद मनी उसकी अलमारी से 4.80 लाख रुपये लेकर धमकियां देते हुए फरार हो गया। राजू ने 100 नंबर पर पुलिस को फोन किया। जिसके बाद उसे भी सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने पर परिवारवाले उसे जौहल अस्पताल ले गए। मनिदर ने पुलिस को बताया कि उसकी व पवार ट्रांसपोर्ट की गाड़ियां दिल्ली जाती हैं। वह उसे अपनी ट्रांसपोर्ट बंद करने के लिए कह रहा था, उसने बंद नहीं की तो मारपीट की गई। पुलिस ने उसके बयानों पर पवार ट्रांसपोर्ट के मालिक मनी, उसके भाई दीप, मुंशी पुरषोतम, ड्राइवर हैप्पी, साधु व दो अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इस बारे में जांच कर रहे एएसआई कृष्ण कुमार ने कहा कि अभी तक आरोपित गिरफ्तार नहीं किए जा सके हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!