संवाद सहयोगी, जालंधर : डैनियल पर हमला बूटा ¨पड स्थित भगवान वाल्मीकि मंदिर पर एक समुदाय के लोगों की तरफ से कब्जे के प्रयास का विरोध करने के कारण किया गया था। इसी कारण उस पर पहले भी हमला हुआ था। यह कहना था कि डैनियल की पत्नी सुनीता उर्फ नीतू और भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज (भावाधस) के राष्ट्रीय चेयरमैन सुभाष सौंधी का। दोनों शनिवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

सुनीता ने बताया कि पति डैनियल का अपहरण कर एक घर में बंद कर उसे बुरी तरह से पीटा गया था। जब उन्हें पता लगा तो वह उसे छुड़ाने पहुंची। वहां मौजूद युवकों ने उन्हें भी पीटा और उनके कपड़े फाड़ कर गलत काम करने का प्रयास किया। वह किसी तरह भाग निकली और लोगों की सहायता से पति को छुड़वाया। इस मामले की शिकायत थाना 6 को दी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

पुलिस पहले कार्रवाई करती तो दूसरा हमला नहीं होता : सौंधी

सुभाष सौंधी ने कहा कि चार अगस्त को वह बस स्टैंड से गुजर रहे थे। जैसे ही चुनमुन मॉल के पास ट्रैफिक सिग्नल पर पहुंचे तो देखा कि आटो में बैठे डैनियल पर कुछ युवक जानलेवा हमला कर रहे हैं। उन्होंने जब उसे छुड़ाने का प्रयास किया तो मुंह पर रुमाल बांधे हमलावरों ने उन पर भी हमला कर दिया। उन्होंने किसी तरह अपनी जान बचाई। हमलावरों के जाने के बाद उन्होंने डैनियल को निजी अस्पताल में दाखिल करवाया। उन्होंने कहा कि थाना 6 की पुलिस ने यदि पहले बनती कार्रवाई की होती तो डैनियल पर दूसरा हमला नहीं होता। उनका आरोप था कि पुलिस ने अब फिर से मामला तो दर्ज कर लिया है लेकिन किसी को गिरफ्तार नहीं किया है।

संघर्ष की दी चेतावनी : उन्होंने कहा कि कुछ लोग भगवान वाल्मीकि जी के मंदिर पर कब्जा करना चाहते हैं। विरोध करने वालों पर जानलेवा हमला कर रहे हैं और पुलिस कुछ नहीं कर रही। यदि पुलिस ने जल्द मंदिर पर कब्जा करने की कोशिश करने वालों और डैनियल के हमलावरों को गिरफ्तार न किया तो भावाधस के सदस्य संघर्ष का रास्ता अपनाने को मजबूर जाएंगे। आरोपितों पर एससी-एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया जाए।

आरोपित जल्द होंगे गिरफ्तार : डीसीपी

इस संबंध में डीसीपी गुरमीत ¨सह का कहना है कि पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। जांच जारी है। जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Posted By: Jagran