जालंधर, जेएनएन। पीएपी कांप्लेक्स में 60वां पुलिस संस्मरण दिवस सोमवार को मनाया गया। इस संस्मरण दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में देश के लिए जान लुटाने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। यह कार्यक्रम डीजीपी दिनकर गुप्ता की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इस मौके पर डीजीपी दिनकर गुप्ता ने 21 अक्टूबर 1959 को लद्दाख में चीन के आक्रमण के दौरान सीआरपीएफ के दस जवानों ने देश की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति दी थी। उन्हीं के याद में यह दिवस मनाया जाता है।

इस दौरान डीजीपी ने बताया कि साल 1981 से 2019 तक 2719 पुलिस अधिकारियों व मुलाजिमों ने देश में एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए शहीदी प्राप्त की, जबकि पिछले एक वर्ष में कुल 292 जवान (सभी अर्धसैनिक बल और राज्य पुलिस बल के जवान) शहीद हुए हैं। शहीद हुए इन जवानों में पंजाब पुलिस के एसटीएफ के कांस्टेबल गुरदीप सिंह भी शामिल हैं, जिन्होंने नशा तस्करों से मुठभेड़ के दौरान शहादत प्राप्त की थी। उन्होंने कहा पंजाब पुलिस एक बहादुर फोर्स है और गुरदीप भी एक बहादुर पुलिस जवान था। डीजीपी ने कहा कि पुलिस विभाग शहीद हुए अधिकारियों व मुलाजिमों के परिवारों की भलाई के लिए विश्व का सबसे अच्छी नीति बनाएगा।

इस मौके पर स्पेशल डीजीपी व डायरेक्टर बीओआइ प्रभोद कुमार, एडीजीपी कुलदीप सिंह, डिप्टी कमिश्नर वरिंदर कुमार, पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर, एसएसपी नवजोत सिंह माहल समेत अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी खासतौर से मौजूद थे। इसके साथ बीते सालों में ड्यूटी के दौरान शहीद होने वाले पंजाब पुलिस के अधिकारियों व मुलाजिमों के परिवार भी मौजूद थे, जिन्होंने पीएपी की शहीदी स्मारक पर फूल चढ़ा शहादत प्राप्त करने वाले अपने परिजनों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!