जालंधर [फरीद शेखूपुरी]। राज्य में 442 लोगों के कातिल और 252 लूट-डकैतियों को अंजाम दे चुके लुटेरे खुलेआम आजाद घूम रहे हैं। पुलिस इन हत्यारों और लुटेरों को गिरफ्तार करना तो दूर उनके बारे में जानकारी तक नहीं जुटा सकी है। एक आरटीआइ का जवाब देते हुए पंजाब पुलिस ने यह बात खुद कुबूली है। इसके मुताबिक जनवरी, 2015 से लेकर दिसंबर 2019 के बीच में राज्य में 3491 लोगों के कत्ल हुए। 3049 मामलों को पुलिस ने हल किया, लेकिन 442 लोगों के कातिलों के बारे में पुलिस के हाथ खाली हैं। वहीं, राज्य भर में लुटेरों ने 795 लूट-डकैती की वारदातें की, जिनमें से 543 को पुलिस ने हल कर दिया, लेकिन 252 मामलों में असफल रही।

इसी आरटीआइ के एक सवाल का जवाब देते हुए पुलिस ने माना कि जनवरी 2010 से दिसंबर 2019 के बीच में पंजाब पुलिस की हिरासत में 27 लोगों की मौत हुई है। हालांकि यह मौतें किस कारण से हुई इस बारे में नहीं बताया गया। पंजाब पुलिस के एआइजी क्राइम ने यह भी बताया कि 2014 से 2019 के बीच में 24 जिला पुलिस और तीन कमिश्नरेट पुलिस के क्षेत्र में स्नैचिंग के 9469 मामले दर्ज हुए थे। 5299 मामलों को हल किया गया, जबकि 4170 मामले पुलिस नहीं सुलझा पाई।

सूचना आयोग में अपील के बाद दी पूरी जानकारी

लुधियाना निवासी आरटीआइ कार्यकर्ता रोहित सभ्रवाल ने बताया कि आरटीआइ एक्ट के तहत अप्रैल 2019 में उन्होंने पंजाब पुलिस के एआइजी क्राइम कम पीआइओ से बीते पांच साल में राज्य भर में हुई हत्याओं, लूट-डकैती, स्नैचिंग व पुलिस हिरासत में हुई मौतों का आंकड़ा मांगा था। जवाब में उन्हें अधूरी जानकारी दी गई। इस पर उन्होंने राज्य के सूचना आयोग में अपील दायर की, लेकिन उन्हें फिर अधूरी जानकारी मिलीं। इसके बाद उसने एक के बाद तीन और अपील की, जिस पर पंजाब पुलिस उन्हें सूचना देने को तैयार हुई। पहले तो उन्हें कहा कि वह विभिन्न जिलों से अलग-अलग जानकारी हासिल कर लें। बाद में एआइजी क्राइम के दफ्तर ने यह जानकारी खुद सभी जिलों से जमा करके उन्हें दी।

हत्या

साल            दर्ज केस        हल केस

2015             701            636

2016             771            639

2017             658            587

2018             684            595

2019             677            592

लूट/डकैती

साल                    दर्ज केस           हल केस

2015                   165               114

2016                   190               125

2017                    147              110

2018                   177               120

2019                   116                74

स्नैचिंग

साल                  दर्ज केस            हल केस

2016 2039 1078

2017 2473 1444

2018 2512 1362

2019 2445 1415

पुलिस हिरासत में मौत

साल    मामले

2010    दो

2011   पांच

2012   तीन

2013   एक

2014   एक

2015   तीन

2016   चार

2017   चार

2018   दो

2019   दो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!