जासं, जालंधर : सर्व शिक्षा अभियान के तहत मिड-डे मील दफ्तरी कर्मचारियों ने बुधवार को अनूठे ढंग से सरकार की घोषणाओं की पोल खोली। उन्होंने रोष रैली निकाल कांग्रेस विधायकों के लिए '36 हजार मुलाजिम ढूंढो इनाम पाओ' स्कीम जारी की। इसके तहत पक्के हुए मुलाजिम तलाशने वाले विधायक को प्रति मुलाजिम 100 रुपये के हिसाब से इनाम दिया जाएगा। मुलाजिमों ने हाथों में पोस्टर लेकर रोष जाहिर किया और सरकार से पूछा कि आखिर कौन से 36 हजार मुलाजिमों को पक्का किया गया है। वे तो 15 साल से पक्के होने की मांग को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। रैली निकालते हुए यूनियन के सदस्यों ने विधायक रजिदर बेरी के घर का भी घेराव किया।

यूनियन नेता शोभित भगत व आशीष जुलाहा का कहना है कि शिक्षा मंत्री परगट सिंह की तरफ से मीटिग में कहा गया था कि उनकी जायज मांगें हैं और 29 नवंबर को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई मीटिग में मुलाजिमों की मांगों के फैसले ले लिए गए हैं। अंतिम फैसला मुख्यमंत्री पंजाब की तरफ से लिया जाना है लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की तरफ से 11 नवंबर को विधानसभा में नवा एक्ट पास करते हुए 36 हजार कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने की घोषणा की गई लेकिन दुख की बात यह है कि 28 दिन बीत जाने के बावजूद एक्ट विभागों को नहीं भेजा गया। मुलाजिम जब भी विभाग के अधिकारियों को मिलते हैं तो उच्च अधिकारियों की तरफ से सरकार के नोटिफिकेश न आने का हवाला दिया जाता है। जब तक नोटिफिकेश नहीं आता वे आगे की कार्यवाही नहीं कर सकते। गगन सयाल, राजीव शर्मा, सुखराज, गगनदीप शर्मा ने कहा कि जिस तरह मतदान मांगने के लिए राजनीतिक पार्टियां घर घर जाकर मतदान उनके हक में करने की मांग करते हैं। उसी तरह से कांग्रेस सरकार के झूठे वादों की पोल खोलने के लिए कर्मचारी हर हजार, गली मोहल्ले व गांव-गांव प्रचार मुहिम शुरू करेंगे।

Edited By: Jagran