रामपाल भारद्वाज, गढ़शंकर

जम्मू कश्मीर, पठानकोट की ओर जाने वाले यात्रियों को गढ़शंकर से निकलने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शहर से चंद किलोमीटर का सफर तय करने के लिए घंटों ट्रैफिक जाम में लग जाते हैं। इसका मुख्य कारण अवैध कब्जे, दुकान का सामान सड़क पर रखने व आड़े तिरछे वाहनों की पार्किग और जगह जगह अवैध बस स्टैंड है। इन्हें रोकने के लिए नगर कौंसिल के अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं करते। अगर वह कोई अभियान चलाते हैं, तो उनके रास्ते में राजनीतिक दलों के नेता रोड़ा बनकर खड़े हो जाते हैं, जिसके कारण दुकानदारों के हौसले बुलंद होते हैं।

नई नगर परिषद कमेटी के अस्तित्व में आने के बाद लोगों को आशा थी कि उन दुकानदारों पर नकेल कसी जाएगी जो दुकान का सामान सड़क पर रख ट्रैफिक व्यवस्था में बाधा उत्पन्न करते हैं, लेकिन कमेटी बने दो महीने से ऊपर हो गया और ट्रैफिक जाम की समस्या जस की तस है। गढ़शंकर पुलिस स्टेशन के बिल्कुल पास बीज दुकान पर दिन में ट्रक अनलोड होता है। इसके कारण यहां से आगे वाहन लेकर निकलना बहुत मुश्किल हो जाता है क्योंकि सड़क की चौड़ाई कम है और आवागमन बाधित हो जाता है। सड़क किनारे अक्सर बेतरतीब दोपहिया व चार पहिया वाहन खड़े होने के कारण पैदल चलना भी कई बार मुश्किल हो जाता है।

सियासी वादों का निकल रहा है धुआं

एंबुलेंस तक जाम में फंसी रहती है। लोगों का कहना है कि चुनाव में सभी राजनीतिक दल मत प्राप्त करने के लिए ट्रैफिक समस्या का समाधान का वादा करते हैं और चुनाव सम्पन्न होने के बाद वादे को भूल जाते हैं। ट्रैफिक जाम की शिकायत करने पर पुलिस अधिकारी संबंधित दुकानदार को शिकायतकर्ता की जानकारी दे देते हैं और दुकानदार शिकायत करने के लिए धमकियां देने लगते हैं।

करेंगे कार्रवाई: एसएचओ गढ़शंकर

एसएचओ इकबाल सिंह ने कहा कि किसी भी दुकानदार को मनमानी नहीं करनी दी जाएगी। नियमों का उल्लंघन करने वाले दुकानदारों पर कार्रवाई होगी।

Edited By: Jagran