जागरण टीम, होशियारपुर : श्रीराम लीला कमेटी की तरफ से महंत रमिदर दास जी के आशीर्वाद तथा प्रधान शिव सूद की अगुआई में करवाए जा रहे दशहरा महोत्सव के दौरान श्रीराम लीला में दूसरे दिन ताड़का वध का मंचन किया गया। इस दौरान शनिवार के मंचन में महाराज दशरथ अपने चारों लाडलों के साथ खुशी-खुशी राजपाट चला रहे थे। इसी बीच कौशिक गोत्र वाले गाधी के पुत्र महर्षि विश्वामित्र राज दरबार में पहुंचे। उन्होंने महाराज दशरथ से कहा कि राक्षसों के अत्याचार के कारण यज्ञ आदि कार्यों में विघ्न पड़ रहा है। इसलिए यज्ञ आदि कार्यों को निर्विघ्न करने के लिए मैं राज कुमार राम व लक्ष्मण को अपने साथ ले जाने लिए आया हूं यह सुनकर महाराज दशरथ व्याकुल हो उठे, लेकिन कुलगुरू वशिष्ठ जी के समझाने पर महाराज दशरथ ने दोनों राजकुमारों को महर्षि विश्वामित्र के संग भेज दिया। इस मौके पर कलाकारों ने प्रस्तुति से सभी का मन मोह लिया।

महर्षि के आदेश से श्री राम ने वहां ताड़का को मारा तथा ऋषि-मुनियों को भय मुक्त किया। इस अवसर पर प्रधान शिव सूद, चेयरमैन गोपी चंद कपूर, संरक्षक आरपी धीर, महासचिव प्रदीप हांडा, डा. बिदुसार शुक्ला, कैशियर संजीव ऐरी, राकेश सूरी, मीडिया प्रभारी कमल वर्मा, सहमीडिया प्रभारी राजिदर मोदगिल, अश्विनी गैंद, शम्मी वालिया, शिव जैन, हरीश आनंद, सुभाष गुप्ता, मनोहर लाल जैरथ, अरुण गुप्ता, विपन वालिया, पवन शर्मा, अजय जैन, नरोत्तम शर्मा, अशोक सोढी, कुनाल चतरथ, शुभाकर भारद्वाज, सुनील पटियाल, मनि गोगिया, राकेश डोगरा, दविदर नाथ बिंदा, दीपक शारदा, रघुवीर बंटी, अजय जैन, कपिल हांडा, विनोद कपूर, मास्टर मनोज दत्ता, आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran